For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

EPFO : 5 साल में मिल रहा है सबसे कम ब्याज, जानें ब्याज दरें

|

नई दिल्ली। रिटायरमेंट फंड का प्रबंधन वाले कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ इस वक्त पिछले 5 साल में सबसे कम ब्याज दे रहा है। 2019-20 के दौरान यह ब्याज दर 8.50 फीसदी है। यह ब्याज दर पिछले 5 साल में सबसे कम है। इस फंड में कर्मचारी के वेतन से पैसा कटने के बाद जमा होता है। यह पैसा कर्मचारी को उसके रिटायरमेंट पर दिया जाता है। लेकिन इस पर कम ब्याज का असर उसके रिटायरमेंट के बाद के जीवन पर पड़ता है। फिलहाल ईपीएफओ के 5 करोड़ सदस्य हैं।

EPFO : 5 साल में मिल रहा है सबसे कम ब्याज, जानें ब्याज दरें

 

जानिए कितना मिल रहा है ब्याज

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ जैसे ही इन ब्याज दरों को बदलने की घोषणा करता है, उसके बाद एक परिपत्र के माध्यम से अपने क्षेत्रीय कार्यालयों को आदेश देकर नई ब्याज के हिसाब से गणना को कहता है।

जानें पिछले वर्षों का ब्याज

वित्त वर्ष 2015-16 में यह ब्याज दर 8.80 फीसदी थी।

वित्त वर्ष 2016-17 में यह ब्याज दर 8.65 फीसदी थी।

वित्त वर्ष 2017-18 में यह ब्याज दर 8.55 फीसदी थी।

वित्त वर्ष 2018-19 में यह ब्याज दर 8.65 फीसदी थी।

वित्त वर्ष 2019-20 में यह ब्याज दर 8.50 फीसदी थी।

इस प्रकार आप खुद ही देख जान सकते हैं कि पिछले 5 साल की सबसे कम ब्याज दर ईपीएफओ के सदस्यों को दी जा रही है।

ईपीएफओ से दिक्कत हो तो करें ऑनलाइन शिकायत

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ से अगर कुछ दिक्कत हो तो अब ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर सकते हैं। ईपीएफओ वेबसाइट पर ईपीएफ निकासी, ईपीएफ खाते के ट्रांसफर, केवाईसी से जुड़े मसलों और इसी तरह की शिकायतों को दर्ज करा कर इनका समाधान ले सकते हैं। हालांकि शिकायत को दर्ज कराने के लिए यूनीवर्सल अकाउंट नंबर या फिर पीपीओ नंबर होना जरूरी है।

ये है ईपीएफओ की वेबसाइट

http://www.epfigms.gov.in

PPF Account : कोर्ट भी अटैच नहीं कर सकता है पैसा, जानिए 6 और फायदे

English summary

EPFO is offering the lowest interest rate in 5 years know the interest rates

In a major setback, the Employees Provident Fund Organization (EPFO) has announced the lowest interest rate of 8.55 per cent in the last 5 years for FY 2017-18.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?