For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

मुकेश अंबानी फिर कर सकते हैं अनिल अंबानी की मदद, जानें क्यों

|

नई दिल्ली। तमाम विवादों के बाद भी बड़े भाई मुकेश अंबानी अपने छोटे भाई अनिल अंबानी की मदद कर सकते हैं। अनिल अंबानी इस वक्त मुश्किल दौर का सामना कर रहे हैं। उनके ज्यादा कारोबार दिक्कतों को झेल रहे हैं औन अनिल अंबनी अपनी गुप कंपनियों का कर्ज पटाने में परेशानी महसूस कर रहे हैं। अनिल अंबानी समूह की कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस दिवालिया होने की प्रक्रिया से गुजर रही है। ऐसे में खबरें आ रही हैं कि मुकेश अंबानी की कंपनी जियो इसे खरीद सकती है। आरकॉम इन्सॉल्वेंसी प्रक्रिया से गुजर रही है। इस प्रक्रिया के तहत आरकाम की परिसंपत्तियों की बिक्री की जानी है।

मुकेश अंबानी फिर कर सकते हैं अनिल अंबानी की मदद, जानें क्यों

 

-मीडिया में आई जानकारियों के अनुसार आरकाम का कारोबार रिलायंस जियो के कारोबार में मददगार हो सकता है। आरकॉम के पास स्पेक्ट्रम और टावर है, जिसे लेने से रिलायंस जियो को अपना कारोबार मजबूत करने में मदद मिल सकती है। रिलायंस जियो इस वक्त 5जी सेवाओं की तैयारी में जुटी है, ऐसे में अगर उसे यह आसेट मिल जाती है तो उसे अच्छी सेवाएं देने में मदद मिलेगी। इसके अलावा आरकाम के पास नवी मुंबई में काफी प्रॉपर्टी भी है। इसमें धीरूभाई अंबानी नॉलेज सिटी या डीएकेसी जिसे धीरूभाई ने 90 के दशक में हासिल किया था, भी शामिल है।

आरकाॅम पर है काफी ज्यादा कर्ज

डिफाल्ट होते वक्त रिलायंस कम्युनिकेशंस के ऊपर करीब 46,000 करोड़ रुपये का कर्ज था। जानकारों के अनुसार, रिलायंस जियो ने अपने फाइबर और टॉवर कारोबार को 2 इन्फ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्टों को सौंप दिया है। इससे उसे अपने कर्ज घटाने में मदद मिली थी।

पहले भी मदद कर चुके हैं मुकेश अंबानी

कुछ माह पहले ही मुकेश अंबानी ने अपने छोटे भाई अनिल को जेल जाने से बचाया था। उस वक्त उन्होंने अनिल अंबानी का करीब 580 करोड़ रुपये कर्ज चुकाने में मदद की थी। अनिल अंबानी को यह पैसा एरिक्सन को देना था, नहीं ताे जेल जाने की नौबत आ चुकी थी।

 

Mukesh Ambani : उनकी 5 बातें आपको भी बना सकती हैं सफल

English summary

can Mukesh Ambani Reliance jio buy Anil Ambani Reliance Communications

Anil Ambani's Reliance Communications has become bankrupt.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?