For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Home Loan लेने वालों के लिए मुसीबत, सैलेरी में 10 फीसदी बढ़त भी EMI भरने के लिए काफी नहीं

|
Home Loan लेने वालों के लिए मुसीबत, जानिए क्या है चुनौती

Home Loan EMI : हो सकता है कि आप कोविड-19 के निगेटिव असल से बाहर निकलने वाली अर्थव्यवस्था के बारे में शिकायत न करें। हालांकि, यदि आपने होम लोन ले रखा है तो आप उधार दरों में तेज वृद्धि के प्रभाव के बारे में चिंतित हो सकते हैं। एक वापसी करती अर्थव्यवस्था ने कई सैलेरी वाले लोगों के लिए अच्छा काम किया है क्योंकि वित्त वर्ष 2022-23 में उनकी सैलेरी में अच्छी वृद्धि हुई है। हालांकि कई होम लोन लेना वाले के लिए नेट सैलेरी में 10 फीसदी की अच्छी वृद्धि भी बहुत काम की नहीं होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि यदि बढ़ी हुई ब्याज दरों के लिहाज से होम लोन की ईएमआई पर नजर डालें तो उसमें काफी अधिक इजाफा हुआ है।

 

5 तरीके का होता है Personal Loan, शादी से होम रेनोवेशन तक के लिए मिलता है पैसा5 तरीके का होता है Personal Loan, शादी से होम रेनोवेशन तक के लिए मिलता है पैसा

नये-पुराने सभी ग्राहकों पर असर

नये-पुराने सभी ग्राहकों पर असर

चाहे कोई मौजूदा लोन लेना वाला हो या नया, शायद ही कोई होम लोन उधारकर्ता हो जिस पर बढ़ती दरों का असर न पड़ा हो। मई 2022 से आरबीआई की तरफ से रेपो रेट में 2.25 फीसदी की वृद्धि की गयी है। ऐसे में कोई भी उधारकर्ता अछूता नहीं रहा है। हालाँकि, आरबीआई की तरफ से दरें मई से बढ़ायी गयी हैं। ऐसे में अधिक होम लोन ईएमआई का असर खासकर आप पर तब पड़ता जब आपने हाल ही में होम लोन लिया हो।

एडजस्ट करना भी मुश्किल
मई का बाद लोन लेने वालों पर अधिक असर इसलिए पड़ेगा, क्योंकि नए कर्जदार अक्सर अपने सपनों का घर खरीदने के लिए अपना बजट बढ़ा देते हैं और अक्सर किसी भी रीपेमेंट अवधि के लिए अधिकतम संभव होम लोन ले लेते हैं। अब अधिक ईएमआई का भुगतान करना है तो उसे एडजस्ट करना होगा, जिसके लिए मुश्किल से ही कोई जगह बची है।

क्या आ सकती है दिक्कत
 

क्या आ सकती है दिक्कत

बैंक आम तौर पर कुल मासिक ईएमआई को आपकी नेट टेक होम सैलरी के 50 फीसदी से कम रखते हैं। उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति की शुद्ध सैलेरी 62,000 रुपये है और उसका कोई अन्य लोन नहीं चल रहा है और उसने मार्च 2022 में 40 लाख रुपये का होम लोन लिया है। यह लोन 7 फीसदी की ब्याज दर और 20 वर्षों की अवधि के लिए लिया गया होगा। उसकी शुरुआती ईएमआई 31,012 रुपये होगी जो शुद्ध सैलेरी के 50 फीसदी की अधिकतम सीमा के आसपास है। हालांकि, रेपो रेट में 2.25 फीसदी की बढ़ोतरी के प्रभाव को देखते हुए, जनवरी 2023 में बैंक की नई ब्याज दर 9.25 फीसदी होगी, जिससे ईएमआई 36,485 रुपये हो जाएगी। अगर उनका वेतन स्थिर रहता, तो बढ़ी हुई ईएमआई के लिहाज से उधारकर्ता को अपने वेतन का लगभग 59 फीसदी भुगतान करना होगा।

कैसे कम करें ईएमआई

कैसे कम करें ईएमआई

यदि नए उधारकर्ताओं को अपनी ईएमआई चुकाने में कोई कठिनाई हो रही है, तो वे कई तरीकों से ईएमआई को घटा सकते हैं। लोन की अवधि बढ़ाना एक कॉमन तरीका है। वहीं दूसरे तरीके में आप ब्याज दर की तुलना कर सकते हैं और यदि किसी अन्य बैंक में कम हो तो आप लोन ट्रांसफर करा सकते हैं। यदि आपका मौजूदा बैंक अवधि बढ़ाने की अनुमति नहीं दे रहा है तो आप किसी अन्य बैंक की तलाश कर सकते हैं जो आपको लंबी अवधि चुनने और ईएमआई राशि को कम करने की अनुमति देता है।

English summary

Trouble for home loan borrowers even 10 percent increase in salary is not enough to pay EMI

Borrowers will be impacted more after May as new borrowers often increase their budget to buy their dream home and often take the maximum possible home loan for a given repayment tenure.
Story first published: Friday, December 9, 2022, 15:47 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X