For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

SBI MF : तगड़े मुनाफे वाली स्कीम में निवेश रोका गया, सिर्फ 1 तरीका बचा

|

नई दिल्ली। एसबीआई म्यूचुअल फंड ने अपनी सबसे अच्छी म्यूचुअल फंड स्कीम में एक बार फिर से निवेश पर कुछ प्रतिबंध लगाएं हैं। इस स्कीम का नाम एसबीआई स्मॉलकैप स्कीम है। एसबीआई म्यूचुअल फंड की तरफ से दी जानकारी के अनुसार इस स्कीम में 7 सितंबर 2020 तक की एक मुश्त निवेश की सुविधा थी। अब एसबीआई म्यूचुअल फंड कीक इस स्कीम में निवेशक एकमुश्त पैसा नहीं लगा पाएंगे। जहां तक रिटर्न की बात है तो एसबीआई म्यूचुअल फंड के स्मॉलकैप फंड ने 1 साल में 22 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न दिया है।

 

हालांकि अगर आप एसबीआई म्यूचुअल फंड की इस स्कीम में निवेश करना चाहते हैं, तो एक तरीका बचा है। आइये जानते हैं कि यह तरीका क्या है।

अधिकतम 5000 रुपये की शुरू कर सकते हैं एसआईपी

अधिकतम 5000 रुपये की शुरू कर सकते हैं एसआईपी

अगर आपको लगता है कि एसबीआई स्मॉलकैप फंड में निवेश करना है तो एक तरीका अपना सकते हैं। हालांकि इस स्कीम में एकमुश्त निवेश 7 सितंबर 2020 से बंद हो गया है। लेकिन अभी भी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (सिप) माध्यम से निवेश कर सकते हैं। हालांकि सिप माध्यम से भी मनचाहा निवेश संभव नहीं किया जा सकता है। एसबीआई स्मॉलकैप फंड में अब केवल अधिकतम 5000 रुपये महीने की सिप ही शुरू की जा सकती है। यानी साल भर में 60,000 रुपये अधिकतम निवेश किया जा सकता है।

अगर ज्यादा निवेश करना हो तो क्या करें
 

अगर ज्यादा निवेश करना हो तो क्या करें

अगर आपको लगता है कि एसबीआई स्मॉलकैप फंड में थोड़ा ज्यादा निवेश करना चाहते हैं तो आपको परिवार में किसी दूसरे के नाम पर सिप शुरू करनी चाहिए। यहां भी आप अधिकतम 5000 रुपये महीने की सिप शुरू कर सकते हैं। इस प्रकार पति और पत्नी दोनों मिलकर 10,000 रुपये महीने तक की सिप शुरू कर सकते हैं।

पहले भी एसबीआई स्मॉलकैप फंड में एकमुश्त निवेश रोका गया है

पहले भी एसबीआई स्मॉलकैप फंड में एकमुश्त निवेश रोका गया है

देश में स्मॉल कैप कंपनियों में निवेश की ज्यादा गुंजाइश नहीं है। जो भी कंपनियां स्मॉल कैप कैटेगरी में उनमें काफी निवेश है। यही कारण है कि जब म्यूचुअल फंड मैनेजर्स को लगता है कि अब निवेश के अवसर कम हो गए हैं, तो वह निवेश पर रोक लगा देते हैं। ऐसा इससे पहले अक्टूबर 2015 में और फिर मार्च 2020 में भी किया गया था।

ये है एसबीआई म्‍यूचुअल फंड का बयान

ये है एसबीआई म्‍यूचुअल फंड का बयान

एसबीआई म्‍यूचुअल फंड के कार्यकारी निदेशक डीपी सिंह के अनुसार वैल्‍यूएशन काफी ज्‍यादा हो गए हैं। स्‍मॉलकैप फंड को मैनेज करने में आकार संबंधी अड़चनें आ रही हैं। ऐसे में निवेशकों के हित को ध्यान में रखते हुए एकमुश्‍त निवेश को स्‍वीकार करना बंद कर रहे हैं। वहीं एसबीआई स्‍मॉलकैप फंड की जिम्मेदारी संभाल रहे आर श्रीनिवासन का कहना है कि अगस्‍त के अंत तक इसके एसेट अंडर मैनेजमेंट यानी एएमयू करीब 4,270 करोड़ रुपये के थे। यह सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले म्यूचुअल फंडों में से एक है। पिछले 1 साल में इसने जहां 22.42 फीसदी रिटर्न दिया है, वहीं 3 साल में इसका रिटर्न 8.6 फीसदी और 5 साल में 15.04 फीसदी रहा है।

दोनों बच्चे हो जाएंगे करोड़पति, 2500 रुपये से शुरू करें इन्वेस्टमेंट

English summary

SBI small cap scheme ban on Lump sum investment from 7 September 2020

Lump-sum investment in SBI Small Cap Scheme was banned due to less investment opportunities in the stock market.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?