For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

2.94 रु में तैयार होता है 500 रु का नोट, जानिए बाकी नोटों कितना आता है खर्च

|

नई दिल्ली, अप्रैल 27। क्या आपने कभी सोचा है कि आप जो नोट दिन-रात खर्च करते हैं, वो एक नोट कितने रु में तैयार होता है। करेंसी नोट सिम्पल पेपर जैसे कागज पर छापे जाते हैं। हालांकि उनकी वैल्यू काफी ज्यादा होती है। उदाहरण के लिए 2000 का नोट दिखने में रंगबिरंगा कागज होता है, मगर उसकी वैल्यू 2000 रु है। पर इसे बनाने में कितने रु खर्च होते हैं। आज हम आपको इस खबर में पूरी जानकारी देंगे कि जिन नोटों से आप खरीदारी करते हैं, उनमें कौन सा कितने में तैयार होता है।

 

यहां किलो के भाव बिकते हैं नोट, लगता है पैसों का बाजार

किसकी होती है जिम्मेदारी

किसकी होती है जिम्मेदारी

भारत में, नए नोटों की छपाई की जिम्मेदारी एकमात्र भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) पर होती है। आरबीआई एक रुपए के नोट को छोड़कर सभी मूल्य के नोटों को छापता है। सभी एक रुपये के नोट वित्त मंत्रालय की देखरेख में छापे जाते हैं और वित्त सचिव द्वारा हस्ताक्षर किए जाते हैं। इस पर आरबीआई के गवर्नर के साइन नहीं होते। वित्त मंत्रालय एक रुपए के नोटों को छापने और बाकी सभी मूल्य के सिक्कों को मुद्रित करने के लिए जिम्मेदार है।

आरबीआई करता है प्रसार

आरबीआई करता है प्रसार

भारतीय रिज़र्व बैंक को ही नोटों और सिक्कों को प्रसारित करने का अधिकार है। इसका मतलब यह है कि वित्त मंत्रालय एक रुपये के नोट छापता है और बाकी सभी सिक्कों को मुद्रित करके उन्हें अर्थव्यवस्था में प्रसारित करने के लिए रिज़र्व बैंक को भेज देता है।

200 रु और 500 रु के नोट
 

200 रु और 500 रु के नोट

2016 में नोटबंदी में 200 रु के नोट भी पेश किए गए। 200 रु का एक छापने में 2.93 रु की लागत आती है। वहीं 500 रु का एक नोट छापने में सरकार को 2.65 रु खर्च करने होते हैं।

2000 रु का नोट

2000 रु का नोट

2000 रु का नोट छापने में ज्यादा खर्च आता है। 2000 रु का एक नोट छापने में 3.54 रु लगते हैं। यहां यह बताना जरूरी है कि नोटों की छपाई का मुख्य खर्च नोटों की छपाई में इस्तेमाल होने वाले कागज, स्याही, सुरक्षा धागे और मशीनों की खरीद पर होता है। आरबीआई को इन नोटों को बनाने के लिए नोट बनाने के कागज और स्याही का आयात करना पड़ता है।

50 रु का नोट

50 रु का नोट

इसी तरह 50 रु का एक नोट छापने पर 2019-20 में 1.22 रु की लागत आई, जबकि इसी नोट को 2018-19 में छापने पर कुल खर्च आता था 1.24 रु। बताते चलें कि 10 रु का नोट 0.94 रु और 20 रु का नोट 0.90 रु में तैयार होता है।

English summary

Rs 2 point 94 is cost for one Rs 500 one know how much the remaining notes cost

Printing a note of Rs 50 costed Rs 1.22 in 2019-20, while the total cost of printing the same note in 2018-19 was Rs 1.24. Let us tell you that the Rs 10 note is ready for Rs 0.94 and the Rs 20 note is ready for Rs 0.90.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X