For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

कामयाबी की मिसाल : लड़की को नहीं उड़ाने दिया गया प्लेन, पर आज हैं 10 प्राइवेट जेट और 420 करोड़ रु

|

नई दिल्ली, अगस्त 15। भारत में महिलाओं पर काफी बंदिशे रही हैं। मगर अब समय बदल गया है। पर फिर भी कुछ जगहों पर ये बंदिशे आज भी कायम हैं। कुछ बंदिशे इसी तरह एक लड़की पर लगाई गयीं। वो लड़की प्लेन उड़ाना चाहती थी। उसे परिवार वालों, दोस्तों और समुदाय के लोगों ने इससे रोक दिया। मगर वो लड़की रुकी नहीं। बल्कि उसने आगे बढ़ कर एक कंपनी बनाई, जिसके पास अपने खुद के 10 प्राइवेट जेट हैं। आज वो लड़की 420 करोड़ रु की मालकिन है। जानते हैं इस महिला की कहानी।

 

Success Story : कभी धोए बर्तन, अब सालाना कमाई है 30 करोड़ रुSuccess Story : कभी धोए बर्तन, अब सालाना कमाई है 30 करोड़ रु

अमीर महिलाओं में गिनती

अमीर महिलाओं में गिनती

हम बात कर रहे हैं कनिका टेकरीवाल की, जिन्हें हाल ही में कोटक प्राइवेट बैंकिंग हुरुन की लीडिंग वेल्थी वुमन लिस्ट 2021 में सबसे कम उम्र की सेल्फ-मेड एंट्रेप्रेन्योर नामित किया गया था। उनकी आयु केवल 33 साल की है और उनके पास 420 करोड़ रुपये की संपत्ति है। टेकरीवाल जेटसेटगो की सीईओ और संस्थापक हैं। ये एक प्लेन एग्रीगेटर स्टार्टअप है।

भोपाल में हुआ जन्म

भोपाल में हुआ जन्म

कनिका टेकरीवाल का जन्म भोपाल में एक मारवाड़ी परिवार में हुआ था। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू स्कूल से शिक्षा हासिल की, जो मध्य प्रदेश की राजधानी में भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) परिसर में है। जेटसेटगो को शुरू करने की कनिका टेकरीवाल की यात्रा आसान नहीं रही। टेकरीवाल ने न केवल एक महिला होने के कारण दिक्कतें उठाईं, बल्कि अपने परिवार के रूढ़िवादी विचारों से लड़ाई लड़ी।

कैंसर से जीती जंग
 

कैंसर से जीती जंग

उन्होंने भारत में निजी जेट और हेलीकॉप्टर चार्टर्स के लिए पहला मार्केट स्थापित करने के लिए कैंसर से भी जीत हासिल की। कैंसर के कारण वे अपने मकसद में एक साल पीछे हो गयीं, मगर उन्होंने हार नहीं मानीं। टेकरीवाल एमबीए ग्रेजुएट हैं। उन्होंने 2012 में अपने दोस्त सुधीर पेरला के साथ जेटसेटगो की सह-स्थापना की थी।

आज हैं 10 प्लेन

आज हैं 10 प्लेन

उनकी कंपनी के पास आज 10 प्राइवेट जेट हैं। टेकरीवाल का प्लेन एग्रीगेटर स्टार्टअप मालिकों के लिए चार्टर्ड विमानों और हेलीकॉप्टरों का प्रबंधन, उड़ान और संचालन करता है। जेटसेटगो को अक्सर भारतीय आसमान का उबर कहा जाता है। जब टेकरीवाल ने निजी विमानन उद्योग में कुछ दिक्कतों को देखा को देखा तो उन्हें ठीक करने का सोचा और इसी तरह जेटसेटगो की शुरुआत हुई।

और प्लेन आ रहे हैं

और प्लेन आ रहे हैं

टेकरीवाल ने इसी साल हैदराबाद के एक बिजनेसमैन से शादी की। बता दें कि उनका 10 प्राइवेट जेट्स के साथ भारत में रुकने का कोई इरादा नहीं है। उनकी कंपनी 2022-23 में गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक-सिटी (गिफ्ट सिटी) के माध्यम से चार और विमानों के आयात की योजना बना रही है। इससे उनकी का विस्तार होगा। गिफ्ट सिटी में टैक्स हॉलिडे (छूट) को धन्यवाद देते हुए कनिका कहती हैं कि उनके 10 में से दो विमान वहां से लीज पर लिए गए हैं और उनकी योजना उसी रूट से 10-20 प्लेन और लेने की है। वे अब मध्य पूर्व में अपने ग्राहकों को गिफ्ट सिटी से विमान किराए पर देने की भी योजना बना रही हैं। जेटसेटगो मध्य पूर्व में अमीर लोगों के लिए विमानों का प्रबंधन भी करती है। कंपनी के पास 18-सीटर ग्लोबल 6000 से लेकर छह-सीटर सेसना साइटेशन सीजे2 तक हैं।

English summary

girl was not allowed to fly plane but today has 10 private jets and Rs 420 crore

Kanika Tekriwal was born in Bhopal in a Marwari family. He attended Jawaharlal Nehru School, which is in the Bharat Heavy Electricals Limited (BHEL) campus in the capital of Madhya Pradesh.
Story first published: Monday, August 15, 2022, 15:08 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X