For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Futures And Options : कुछ बुनियादी तथ्यों को समझें

|
Futures And Options : कुछ बुनियादी तथ्यों को समझें

फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस को "डेरिवेटिव" ट्रेड भी कहा जाता है क्योंकि वे अपनी वैल्यू को एक अंडरलाइंग एसेट्स से प्राप्त करते हैं। फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस की अपनी सीमाएं और फायदे हैं।

 

फ्यूचर क्या हैं और आप उनका ट्रेड कैसे करते हैं?
फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट में स्टॉक या कमोडिटी खरीदार को कॉन्ट्रैक्ट की एक्यपायरी से पहले अपनी पॉजिशन सेटल करने की जरूरत होती है। दूसरी ओर एक विक्रेता, जिसने फ्यूचर सेगमेंट में स्टॉक या कमोडिटी बेची है, उसे फ्यूचर की एक विशिष्ट डेट से पहले इसे वापस खरीदना होगा, जब तक कि होल्डर की पॉजिशन पहले बंद न हो जाए।

आइए अब इसे एक उदाहरण से समझाते हैं। मान लें कि आप कंपनी ए के शेयर की कीमत बढ़ने को लेकर आशावादी हैं। शेयर अब फ्यूचर मार्केट में 1000 रुपये पर ट्रेड कर रहा है। आप फ्यूचर्स मार्केट में एक तय लॉट साइज के साथ स्टॉक खरीद सकते हैं। एक लॉट साइज में कितने भी स्टॉक हो सकते हैं जो बड़ी होती है। यदि आप कंपनी ए को उदाहरण के तौर पर 1 लॉट साइज (500 शेयर) के साथ खरीदते हैं, तो आपका कुल एक्सपोजर (1000x500) = 5 लाख रुपये है। हालांकि, आपको 5 लाख रुपये की पूरी राशि का भुगतान नहीं करना है, लेकिन एक्सचेंज द्वारा निर्धारित मार्जिन मनी अदा करनी होगी। स्टॉक की अस्थिरता के आधार पर मार्जिन 5%, 10%, 15%, 20% या ऐसी कोई भी राशि हो सकती है। अब, यदि शेयर की फ्यूचर कीमत 1000 रुपये (आपकी खरीद मूल्य) से 1010 रुपये हो जाती है, तो आप 10 रुपये का लाभ कमाते हैं और चूंकि आपके पास 500 शेयरों की 1 लॉट है, तो आपका लाभ = 500x10 = 5000 रुपये होगा। इसी तरह, अगर कीमत 1000 रुपये से गिरकर 990 रुपये हो जाती है, तो आपको - 5000 रुपये (500x-10) का नुकसान होगा।

 

याद रखें, कॉन्ट्रैक्ट की एक्सपायरी से पहले आपको अपनी पॉजिशन सेटल करनी होगी।
अब, जहां तक फ्यूचर खरीदारी का संबंध है, तो उसकी यह जानकारी थी। अगर आपको लगता है कि कंपनी ए के शेयर की फ्यूचर कीमत नीचे जाने की संभावना है, तो आप पहले बेच सकते हैं और फिर से कम दाम पर खरीद सकते हैं। ऊपर दिए गए उदाहरण में, अगर आपने पहले 1000 रुपये में एक लॉट (500 शेयर) बेचा और शेयर 990 रुपये तक गिर गया, तो आप 5000 रुपये (10x 500 शेयर 1 लॉट) का लाभ कमाते हुए इसे 990 रुपये में वापस खरीद सकते हैं। हालांकि, अगर कीमत चढ़ती है तो आपको नुकसान होगा।

ऑप्शंस ट्रेडिंग को समझना
एक ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट एक निवेशक को कॉन्ट्रैक्ट की एक्सपायरी से पहले किसी भी समय निर्दिष्ट कीमत पर शेयर खरीदने (या बेचने) का अधिकार देता है, लेकिन ये उसका दायित्व नहीं होता।

1) कॉल ऑप्शन खरीदना
इसे एक उदाहरण के साथ समझाया गया है। मान लें कि एक निवेशक एक स्टॉक का अच्छी तरह से अध्ययन करता है और फैसला करता है कि वह कंपनी एक्सवाईजेड को कॉल ऑप्शन के साथ खरीदना चाहता है क्योंकि उसे स्टॉक में तेजी की उम्मीद है। वह 8 रुपये के प्रीमियम का भुगतान करके 2000 स्ट्राइक कॉल ऑप्शन खरीदने का फैसला करता है।
इस मामले में, अगर कीमत 2000 रुपये के रेट से नीचे जाती है, तो उसका नुकसान 8 रुपये तक सीमित रहेगा, जो प्रीमियम का भुगतान है। अब, यदि कीमतें 2000 रुपये के स्ट्राइक से ऊपर जाती हैं, तो वह तभी लाभ कमाएगा जब वह 8 रुपये का भुगतान किया गया प्रीमियम भी वसूल करेगा, जिसका अर्थ है कि लाभ केवल 2008 रुपये से अधिक होगा। हालांकि, कॉल ऑप्शन खरीदार को नुकसान उसके द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम की सीमा तक सीमित है।

2) कॉल ऑप्शन बेचना
अब, ऊपर बताए गये उदाहरण में, यदि एक निवेशक देखता है कि स्टॉक के गिरने की संभावना है तो वह 2000 रुपये के स्ट्राइक रेट पर ऑप्शन बेचता है और ऊपर बताए गए मामले में 8 रुपये का प्रीमियम जमा करता है। इसलिए, अगर कीमत 1992 रुपये से कम हो जाती है, तो उसे नुकसान होगा। संक्षेप में, वह पूरे प्रीमियम के नुकसान के बाद ही नुकसान झेलेगा। इसलिए एक ऑप्शन सेलर को नुकसान उठाने के लिए उसे पहले प्राप्त प्रीमियम को खोना होगा, प्राप्त प्रीमियम के ऊपर और उसके द्वारा खोई गई कोई भी राशि, उसका असल नुकसान होगा।

3) पुट ऑप्शन खरीदना
एक 'पुट ऑप्शन' एक कॉन्ट्रैक्ट है जहां दो इच्छुक पार्टियां अंडरलाइंग की कीमत के आधार पर लेनदेन में प्रवेश करने के लिए सहमत होती हैं। प्रीमियम का भुगतान करने के लिए सहमत होने वाली पार्टी को 'कॉन्ट्रैक्ट खरीदार' कहा जाता है और प्रीमियम प्राप्त करने वाली पार्टी को 'कॉन्ट्रैक्ट विक्रेता' कहा जाता है। इस मामले में खरीदार एक प्रीमियम का भुगतान करता है और खुद के लिए अधिकार हासिल करता है, जबकि कॉन्ट्रैक्ट सेलर प्रीमियम प्राप्त करता है और खुद को बाध्य करता है।
दिलचस्प बात यह है कि कॉन्ट्रैक्ट खरीदार एक्सपायरी के दिन अपने अधिकार का प्रयोग करने या न करने का फैसला करेगा। मान लें कि कंपनी एक्सवाईजेड 900 रुपये पर कारोबार कर रही है। कॉन्ट्रैक्ट खरीदार कंपनी एक्सवाईजेड के लिए पुट ऑप्शन को कॉन्ट्रैक्ट विक्रेता को 900 रुपये की एक्यपायरी पर बेचने का अधिकार खरीदता है। हालांकि, अधिकार प्राप्त करने के लिए, कॉन्ट्रैक्ट खरीदार को कॉन्ट्रैक्ट विक्रेता को प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है। प्रीमियम की प्राप्ति के विरुद्ध, कॉन्ट्रैक्ट विक्रेता कंपनी एक्सवाईजेड को समाप्ति पर 900 रुपये पर खरीदने के लिए सहमत होगा, लेकिन केवल तभी जब कॉन्ट्रैक्ट खरीदार चाहता है कि वह उसे उससे खरीद ले। एक्सपायरी पर, यदि कंपनी एक्सवाईजेड 880 रुपये पर कारोबार कर रही है, तो कॉन्ट्रैक्ट खरीदार विक्रेता से कंपनी एक्सवाईजेड को 900 रुपये में खरीदने की मांग कर सकता है। इसका मतलब है कि कॉन्ट्रैक्ट खरीदार एक्सवाईजेड को 900 रुपये में बेचने का लाभ उठा सकता है, भले ही वह 880 रुपये की कम कीमत पर कारोबार कर रहा हो।

4) पुट ऑप्शन बेचना
आइए अब एक उदाहरण की मदद से समझते हैं कि पुट ऑप्शन बेचना क्या है। मान लीजिए कि निफ्टी के लिए एक विक्रेता 18500 पुट ऑप्शन बेचता है और प्रीमियम के रूप में 350 रुपये जमा करता है। जब तक हाजिर भाव 18500 से ऊपर रहता है, प्रीमियम उसका लाभ बन जाता है। दूसरी ओर घाटा तभी शुरू होता है जब हाजिर मूल्य नीचे गिर जाता है (18500-350 प्रीमियम प्राप्त) = 18150। 18150 की कीमत पर भी वह शून्य पर है, लेकिन इस हाजिर कीमत से नीचे उसे नुकसान होने लगता है।

मुख्य जरूरी बातें
- ऑप्शंस और फ्यूचर्स दोनों प्रकार के डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट हैं जो अंडरलाइंग इंडेक्स, सिक्योरिटी या कमोडिटी के लिए मार्केट मूवमेंट्स से अपनी वैल्यू प्राप्त करते हैं।
- एक ऑप्शंस खरीदार को कॉन्ट्रैक्ट की अवधि के दौरान किसी भी समय एक खास वैल्यू पर एसेट्स खरीदने (या बेचने) का अधिकार देता है, लेकिन दायित्व नहीं देता।
- एक फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट खरीदार को एक विशिष्ट एसेट खरीदने के लिए बाध्य करता है, और विक्रेता उस संपत्ति को एक विशिष्ट फ्यूचर डेट में बेचने और डिलीवर करने के लिए बाध्य करता है।
- फ्यूचर्स आपको बाजार की अस्थिरता के खिलाफ अपने जोखिम को हेज करने की सुविधा देता है। उदाहरण के लिए, यदि आपके पोर्टफोलियो में स्टॉक होल्डिंग्स हैं और आप बाजार के गिरने की उम्मीद करते हैं, तो आप फ्यूचर्स मार्केट में बेच सकते हैं और एक हद तक खुद को हेज कर सकते हैं।

5पैसा के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग की शुरुआत करें

English summary

Futures And Options Understand Some Basic Facts

Futures and options are also called "derivative" trades because they derive their value from an underlying asset. Futures and Options have their own limitations and advantages.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X