For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

EV Charging Station : ये है फ्यूचर बिजनेस, हमेशा होगी कमाई

|

नई दिल्ली, जुलाई 24। क्या आप भारत में इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग स्टेशन का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं? अगर हां तो यह आर्टिकल आपके काफी काम आ सकता है। ईवी चार्जिंग स्टेशन लगाना एक काफी प्रोफिट वाला बिजनेस हो सकता है, क्योंकि ये फ्यूचर का बिजनेस है। ऐसा इसलिए क्योंकि माना जा रहा है कि आने वाले समय में भारत में ईवी की संख्या में भारी बढ़ोतरी होगी और पेट्रोल-डीजल के वाहन सड़कों पर कम ही दिखेंगे। यहां हम आपको भारत में ईवी चार्जिंग स्टेशन बिजनेस प्लान के बारे में बताने की कोशिश करेंगे।

 

Business Idea : मां-बेटे ने कायम की मिसाल, पौष्टिक लड्डुओं से कमा रहे 2 करोड़ रुBusiness Idea : मां-बेटे ने कायम की मिसाल, पौष्टिक लड्डुओं से कमा रहे 2 करोड़ रु

स्कोप है बहुत शानदार

स्कोप है बहुत शानदार

2030 तक ईवी दो और तिपहिया वाहनों के उपयोग में 70-80 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है। पिछले साल राज्य और केंद्र सरकारों ने विभिन्न ईवी रेगुलेशंस जारी किए थे, इसलिए एक संभावित कारोबारी निश्चित रूप से भारत में ईवी चार्जिंग स्टेशन कंपनी शुरू करने के अवसर पर ध्यान दे सकता है। मर इसके लिए कुछ शर्तों को पूरा करना जरूरी है।

कंपनी की करें स्थापना
 

कंपनी की करें स्थापना

भारत में कानूनी रूप से किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए, आपके पास कंपनी का गठन या बिजनेस रजिस्ट्रेशन होना चाहिए। ईवी चार्जिंग स्टेशन बिजनेस शुरू करने के लिए आपको कंपनी तैयार करनी होगी।

जीएसटी रजिस्ट्रेशन
जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराएं। जीएसटी के तहत, पीसीएस द्वारा ईवी चार्ज करना एक सर्विस है, जिसका अर्थ है कि चार्जिंग एक्टिविटी पर 18 प्रतिशत टैक्स लगेगा। इसलिए, भारत में ईवी चार्जिंग स्टेशन बिजनेस शुरू करने के लिए, आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन प्राप्त करने और जीएसटी रिटर्न फाइलिंग करने की आवश्यकता है।

आईएसओ सर्टिफिकेशन और ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन

आईएसओ सर्टिफिकेशन और ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन

इन दिनों हर बिजनेस में प्रतिस्पर्धा अधिक है। ऐसा ईवी चार्जिंग स्टेशन बिजनेस में भी है। इसलिए एक दमदार प्रतिस्पर्धी बनने के लिए, हाई क्वालिटी प्रोडक्ट और सर्विस देने और अपने बिजनेस को सुरक्षित करने के लिए, आपको आईएसओ सर्टिफिकेशन और ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करना होगा।

ये हैं कुछ अन्य जरूरी चीजें

ये हैं कुछ अन्य जरूरी चीजें

- ग्रिड के सभी तीन किलोमीटर में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन बनाया जाना चाहिए
- राजमार्ग या सड़क के प्रत्येक किनारे पर प्रत्येक 25 किलोमीटर पर एक चार्जिंग स्टेशन शामिल होना चाहिए
- लंबी दूरी और भारी इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए सड़कों के दोनों ओर फास्ट चार्जिंग स्टेशन सुलभ होने चाहिए
- ट्रांसपोर्टेशन नगरों और शहरों में बस टर्मिनलों के भीतर चार्जिंग स्टेशन उपलब्ध कराए जाने चाहिए
- तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) की मौजूदा रिटेल आउटलेट (आरओ) को सक्षम अधिकारियों (राज्य/केंद्र/संघ राज्य क्षेत्रों) से पीसीएस स्थापित करने के लिए मंजूरी प्राप्त करने में प्राथमिकता मिल सकती है

आइडिया हैं कई

आइडिया हैं कई

इलेक्ट्रिफाइड वाहन, जैसे कि बसें और कार, अपनी चार्जिंग आवश्यकताओं को पूरा कर सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप ई-ट्रकों पर फोकस कर सकते हैं, जो बड़े वाहन हैं। एक अन्य विकल्प ई-रिक्शा के लिए चार्जिंग स्टेशन स्थापित करना है। तिपहिया कैटेगरी पर ध्यान केंद्रित करना भी एक स्मार्ट आइडिया है। क्लासिक बजाज 3 व्हीलर्स को और अधिक आधुनिक बनाने के लिए, आप चार्जिंग सेवाएं प्रदान कर सकते हैं।

एक्सपर्ट से लें सलाह
भारत में ईवी चार्जिंग स्टेशन बिजनेस शुरू करने की संभावनाएं और फायदे बहुत अधिक हैं। हालांकि, सफल होने के लिए आपको कुछ स्टेप्स को फॉलो करना होगा। बिजनेस एक्सपर्ट से कंसल्ट करना अच्छा ऑप्शन है ताकि आप आसानी से अपना बिजनेस शुरू कर सकें और अपने टार्गेट को प्राप्त कर सकें।

English summary

EV Charging Station This is the future business will always earn

The use of EV two and three wheelers is projected to increase by 70-80 per cent by 2030. Last year, the state and central governments had issued various EV regulations.
Story first published: Sunday, July 24, 2022, 16:11 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X