For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्‍नी को मिला अर्थशास्‍त्र में नोबेल पुरस्कार

|

भारतीय-अमेरिकी अभिजीत बनर्जी, उनकी पत्नी एस्थर डुफ्लो और माइकल क्रेमर ने संयुक्त रूप से "वैश्विक गरीबी को कम करने के लिए अपने प्रयोगात्मक दृष्टिकोण के लिए सोमवार को 2019 का अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार जीता।"

नोबेल कमेटी ने कहा, "इस साल लॉरेट्स द्वारा किए गए शोध ने वैश्विक गरीबी से लड़ने की हमारी क्षमता में काफी सुधार किया है। केवल दो दशकों में, उनके नए प्रयोग-आधारित दृष्टिकोण ने अर्थशास्त्र के विकास को बदल दिया है।" इससे अनुसंधान के फील्‍ड में नई प्रगति आयी है।

अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्‍नी को मिला अर्थशास्‍त्र में नोबेल

 

आपको बता दें कि 58 वर्षीय बनर्जी ने कलकत्ता विश्वविद्यालय, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की, जहाँ उन्होंने 1988 में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। अभिजीत बनर्जी ने एमआईटी की लेक्चरर डॉक्टर अरुणधती तुली बनर्जी से शादी की थी, लेकिन बाद में उनका तलाक हो गया। इसके बाद अभिजित ने साल 2015 में अर्थशास्त्री एशर डफलो के साथ विवाह किया। अभिजीत के साथ एस्थर को भी संयुक्‍त रूप से इस बार अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया है।

लोन मेला: सरकारी बैंकों ने 9 दिन में बांटे 81,700 करोड़ का लोन

वह वर्तमान में एमआईटी वेबसाइट पर अपनी प्रोफाइल के अनुसार मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में अर्थशास्त्र के फोर्ड फाउंडेशन इंटरनेशनल प्रोफेसर हैं।

2003 में, बैनर्जी ने डफ्लो और सेंथिल मुलैनाथन के साथ, अब्दुल लतीफ़ जमील गरीबी एक्शन लैब (J-PAL) की स्थापना की, और वह लैब के निदेशकों में से एक रहे।

साथ ही उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव के पद 2015 विकास एजेंडा पर प्रख्यात व्यक्तियों के उच्च-स्तरीय पैनल में भी कार्य किया। बनर्जी कई सारी किताबों के लेखक हैं। उनकी पुस्तक 'पुअर इकनोमिक्स' को गोल्डमैन सैश बिजनेस बुक ऑफ द ईयर का खिताब मिल चुका है। आपको बता दें कि इकोनॉमिक साइंसेज कैटेगरी के तहत यह सम्‍मान वाले अभिजीत बनर्जी भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक हैं।

 

गैस पाइपलाइन, बुनियादी ढ़ांचे पर 60 अरब डॉलर का निवेश करेगी सरकार

English summary

Indian-origin Abhijit Banerjee And His Wife Won Noble Prize For Economics

Indian- American Abhijit Banerjee, his wife Esther Duflo and Muchael Kremer Jointly won the 2019 Nobel Economics Prize for work on global poverty.
Story first published: Monday, October 14, 2019, 17:47 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Goodreturns sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Goodreturns website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more