For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

MSME : इस राज्य में तैयार होंगे 6 इंडस्ट्रियल पार्क, जानिए किसे मिलेगा फायदा

|

नयी दिल्ली। केंद्र और राज्य सरकारें एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग) को सहारा और आगे बढ़ाने के लिए कई प्रयास कर रही हैं। इस सेक्टर के जरिए सरकारों का उद्देश्य निवेश भी जुटाना है। इसीलिए यूपी सरकार राज्य में 6 इंडस्ट्रियल पार्क डेवलप करने की योजना बना रही है। जानकारी के लिए बता दें कि जिन 6 जिलो में ये इंडस्ट्रियल पार्क तैयार किए जा सकते हैं उनमें आगरा, आजमगढ़, कानपुर, मुरादाबाद, वाराणसी और गोरखपुर शामिल हैं। इतना ही नहीं यूपी की योगी सरकार ने राज्य के अन्य क्षेत्रों में इंडस्ट्रियल पार्क तैयार करने की योजना को आगे बढ़ाने के लिए कंसल्टेंट के लिए ई-टेंडर भी मांगे हैं।

MSME : इस राज्य में तैयार होंगे 6 इंडस्ट्रियल पार्क

 

यूपी की इकोनॉमी में एमएसएमई का योगदान

एमएसएमई सेक्टर का यूपी की इकोनॉमी में अहम योगदान रहा है। कृषि के बाद एमएसएमई रोजगार देने वाला सबसे अहम सेक्टर रहा है। यूपी में देश की 14.2 फीसदी एमएसएमई हैं। मोलूम हो कि 2018-19 में एमएसएमई सेक्टर के जरिए राज्य से 1.14 लाख करोड़ रुपये का निर्यात हुआ था। आगरा, कानपुर, मुरादाबाद, वाराणसी, आजमगढ़ और गोरखपुर में बहुत बड़ी संख्या में एमएसएमई यूनिट्स हैं। मगर इन जिलों में एमएसएमई सेक्टर का डेवलपमेंट नियोजित तरीके से नहीं हो सका।

क्या होगा इंडस्ट्रियल पार्क से फायदा

इन इंडस्ट्रियल पार्क के जरिए कोशिश होगी की एमएसएमई के लिए सभी फैसिलिटी एक ही जगह जुटाई जाएं। इन पार्कों में कारखाने और फैक्ट्री शेड के साथ-साथ बिजनेस और शॉपिंग सेंटर, इन्क्यूबेशन सेंटर, होटल-रेस्टोरेंट, हॉस्टल, ऑफिस ब्लॉक, स्वास्थ्य और फायर स्टेशन जैसी सुविधाएं होंगी। साथ ही बिजली, पानी और सड़क आदि की भी व्यवस्था होगी। यहीं सर्टिफिकेशन लैब भी तैयार किए जाएंगे। भंडार गृह, कंटेनर और ट्रक टर्मिनल, रेलवे साइडिंग इंफ्रास्ट्रक्चर, फ्यूल स्टेशन को भी इन इंडस्ट्रियल पार्कों में तैयार किया जाएगा।

क्या होता है कारोबार

जिन जिलों का जिक्र किया गया है उनमें 6000 करोड़ रु सालाना टर्नओवर वाले आगरा और 10000 करोड़ रु सालाना टर्नओवर वाले कानपुर में चमड़े का कारोबार अधिक है। वहीं मुरादाबाद (सालाना टर्नओवर 4950 करोड़ रु) में पीतल उत्पाद, वाराणसी (सालाना टर्नओवर 4500 करोड़ रु) में सिल्क प्रोडक्ट, आजमगढ़ (सालाना टर्नओवर 50 करोड़ रु) में टेक्सटाइल और रेडीमेड गार्मेंट और गोरखपुर में फूड प्रोसेसिंग तथा गार्मेंट कारोबार मुख्य है।

 

MSME : 2024 तक भारत की जीडीपी में होगा 216 अरब डॉलर का योगदान

English summary

MSME 6 industrial parks will be ready in this state know who will benefit

The Yogi government of UP has also sought e-tenders for consultants to carry out the plan to develop industrial parks in other areas of the state.
Story first published: Thursday, July 30, 2020, 14:57 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Goodreturns sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Goodreturns website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more