For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Bank : ऐसे वसूलता है आपसे पैसा, जानिए लगने वाले सभी चार्ज

|

नयी दिल्ली। किसी बैंक में खाता होना और उसकी सभी सेवाओं का उपयोग करना मुफ्त नहीं हैं। आपका बैंक आपके खाते से जुड़ी विभिन्न सेवाओं के लिए समय-समय पर आपसे चार्ज लेता है। बैंक खाता खोलते समय ज्यादातर ग्राहक सेवाओं के लिए लागू शुल्कों के साथ-साथ बैंक के नियमों और शर्तों को नहीं पढ़ते। बैंकों में लगने वाले चार्जेस के बारे में आपको पता होना चाहिए। यहां हम आपको ऐसे ही चार्जेस के बारे में बताएंगे।

मिनिमम बैलेंस और मनी ट्रांसफर चार्जेस
 

मिनिमम बैलेंस और मनी ट्रांसफर चार्जेस

हर बैंक बचत खाते के लिए आपको एक निश्चित बैलेंस बनाए रखने को कहता है। यदि आप मिनिमम बैलेंस को बरकरार न रखें तो बैंक आपसे शुल्क लेता है। मिनिमम बैलेंस न रखने पर आपसे मासिक या तिमाही आधार पर शुल्क लिया जा सकता है। उदारहण के लिए एचडीएफसी बैंक ने मेट्रो और शहरी शाखाओं में 10,000 रुपये और अर्ध-शहरी और ग्रामीण शाखाओं के लिए बचत खातों में 5,000 रुपये का न्यूनतम बैलेंस की लिमिट रखी है। इससे कम पर बैंक ग्राहकों को शुल्क देना होगा। इसी तरह तत्काल भुगतान सेवा (आईएमपीएस), राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) और रीयल-टाइम सकल बस्तियों (आरटीजीएस) के माध्यम से पैसे ट्रांसफर करने पर बैंक आपसे चार्ज लेते हैं। बैंकों मेंएनईएफटी शुल्क 1 से 25 रुपये के बीच होता है, जिस पर जीएसटी भी लगता है। हालांकि ऑनलाइन मोड के माध्यम से शुरू किए गए एनईएफटी और आरटीजीएस लेनदेन मुफ्त हैं।

डेबिट कार्ड और डुप्लिकेट स्टेटमेंट शुल्क

डेबिट कार्ड और डुप्लिकेट स्टेटमेंट शुल्क

डेबिट कार्ड शुल्क बचत खाते के प्रकार और आपके पास मौजूद डेबिट कार्ड पर निर्भर करता है। आपका डेबिट कार्ड जितना अधिक सुविधा वाला होगा, आपसे उतना ही अधिक चार्ज लिया जाएगा। कुछ बचत खाते मुफ्त डेबिट कार्ड देते हैं। वैसे इस कार्ड पर बैंक 99 रुपये से 750 रुपये का शुल्क लेते हैं। उदाहरण के लिए, एचडीएफसी बैंक के नियमित डेबिट कार्ड के लिए 150 रुपये का वार्षिक शुल्क है, लेकिन यदि आप प्लैटिनम डेबिट कार्ड का उपयोग करते हैं, तो आपको 750 रुपये का वार्षिक शुल्क देना होगा। बैंक हर वित्त वर्ष में एक बार टैक्स फाइलिंग के लिए आपको फिजिकल मोड में सालाना स्टेटमेंट देते हैं। मगर यदि आप डुप्लिकेट अकाउंट स्टेटमेंट मांगे तो आपको बैंक के मानदंडों के आधार पर 50 से 100 रु तक का चार्ज देना होगा।

एटीएम और फेल ईसीएस लेनदेन
 

एटीएम और फेल ईसीएस लेनदेन

आम तौर पर बैंक अपने खुद के एटीएम में एक महीने में पांच लेनदेन और अन्य बैंकों के एटीएम से तीन लेनदेन फ्री करने की अनुमति देते हैं। इसके ऊपर आपसे प्रति लेन-देन 20 से 50 रुपये का चार्ज लिया जाएगा। उदाहरण के लिए आईसीआईसीआई बैंक मेट्रो शहरों में बचत खाता धारकों को एक महीने में आठ मुफ्त एटीएम लेनदेन की अनुमति देता है। इसक ऊपर हर पैसों की लेन-देन के लिए आपको 20 रुपये + जीएसटी और गैर-वित्तीय लेनदेन के लिए 8.5 रुपये + जीएसटी देना होगा। इसी तरह बैंक हर बार आपसे फेल ईसीएस लेन-देन पर शुल्क लेते हैं। कुछ बैंकों में सभी फेल ईसीएस लेनदेन के लिए फ्लैट जुर्माना होता है। हालांकि कुछ बैंक हैं जो खाते में अपर्याप्त धन के कारण उसी महीने में एक दूसरे फेल लेनदेन के बाद अधिक शुल्क लेते हैं। उदाहरण के लिए एचडीएफसी बैंक फ्लैट जुर्माने के रूप में 500 रुपये और उस पर जीएसटी वसूलता है।

नकद लेनदेन

नकद लेनदेन

बैंक किसी बचत खाते में नकद लेनदेन की मासिक संख्या को तीन से पांच तक सीमित रखते हैं और यदि आप इससे ज्यादा बार पैसों की कैश लेन-देन करें तो भी आपको चार्ज देना होता है। उदाहरण के लिए कोटक महिंद्रा बैंक एक महीने में चार मुफ्त लेनदेन या 2 लाख रुपये तक की नकद लेनदेन, जो भी पहले हो (जिसमें खुद या तीसरे पक्ष द्वारा नकद जमा और निकासी शामिल है) की अनुमति देता है। एक बार सीमा समाप्त हो जाने के बाद बैंक 3.5 रुपये प्रति हजार चार्ज करता है।

अन्य बैंक शुल्क

अन्य बैंक शुल्क

इन चार्जेस के अलावा बैंक आपसे अलग-अलग परिस्थितियों में शुल्क और जुर्माना वसूल सकते हैं। इनमें चेक बाउंस, एसएमएस सेवा शुल्क, खाता बंद करना, नई चेक बुक जारी करना, डिमांड ड्राफ्ट, रिवार्ड पॉइंट रिडक्शन, लॉकर किराया, पिन जनरेट आदि शामिल हैं। ये शुल्क अलग-अलग बैंकों में कम-ज्यादा होते हैं।

SBI, HDFC Bank से ज्यादा सस्ता Hone Loan मिल रहा यहां, जानिए रेट

English summary

This is how you are charged by Bank know all the charges

The debit card fee depends on the type of savings account and the debit card you have. The more convenience your debit card has, the more you will be charged.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?