For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Mutual Fund : SIP पर इन भ्रमों से बचें, तभी होगा फायदा

|

नई दिल्ली, मई 15। एक व्यवस्थित निवेश योजना (एसआईपी) एक ऐसी योजना है जिसमें निवेशक म्यूचुअल फंड, ट्रेडिंग खाते या रिटायरमेंट खाते में नियमित और समान पैसा मजा करते हैं। एसआईपी आपको नियमित अंतराल (साप्ताहिक, मासिक, त्रैमासिक) पर एक निश्चित राशि का निवेश करने की सुविधा देती है। यह पैसे बचाने और बढ़ाने का एक नियोजित तरीका है और इस पहलू ने इसे निवेशकों के बीच लोकप्रिय बना दिया है। हालाँकि एसआईपी से जुड़े कुछ मिथक हैं, जो भ्रामक हो सकते हैं। यहां देखें कि वे क्या हैं और उनसे कैसे बचा जाए।

 

Mutual Fund : 200 रु से तैयार करें 1 करोड़ रु का फंड, इतना लगेगा समय

स्टॉक मार्केट में गिरावट पर एसआईपी रोक दें

स्टॉक मार्केट में गिरावट पर एसआईपी रोक दें

जब भी शेयर बाजार में गिरावट आती है तो कई निवेशक अपने एसआईपी को या तो रोक देते हैं या बंद कर देते हैं। लेकिन निवेशकों को ऐसा नहीं करना चाहिए। एसआईपी के सबसे बड़े फायदों में से एक यह है कि वे उच्च और निम्न कीमतों पर इकाइयां खरीदकर निवेश की लागत का औसत निकालते हैं। गिरावट वाले बाजार में, जहां शेयर की कीमतें गिर रही हैं, तो आपको कम कीमत पर निवेश करने का मौका मिलता है, जो खरीदारी की औसत लागत को कम करने में मदद करता है। जब बाजार में गिरावट होती है, तो आप सोच सकते हैं कि अपने एसआईपी को रोककर आप अपने पैसे को और नुकसान से बचा रहे हैं। लेकिन आप वास्तव में जो कर रहे हैं वह कम कीमत पर अधिक इकाइयां खरीदने का अवसर खोना है।

बेहतर रिटर्न के लिए मासिक के बजाय दैनिक निवेश करें
 

बेहतर रिटर्न के लिए मासिक के बजाय दैनिक निवेश करें

ऐसे निवेशक हैं जो मानते हैं कि औसत लागत का पूरा लाभ उठाने के लिए, दैनिक एसआईपी करना बेहतर है ताकि निवेश महीने में एक बार के बजाय हर दिन हो। हालांकि, जब आप मासिक और दैनिक एसआईपी के रिटर्न में अंतर का मूल्यांकन करते हैं, तो बहुत अधिक अंतर नहीं होता है। आप मासिक निवेश का विकल्प चुन सकते हैं क्योंकि इससे आपको अपने निवेश को फैलाने का पर्याप्त अवसर मिल सकता है।

एसआईपी केवल इक्विटी फंड में ही की जा सकती है

एसआईपी केवल इक्विटी फंड में ही की जा सकती है

यह एक आम गलतफहमी है कि एसआईपी केवल इक्विटी म्यूचुअल फंड में ही किया जा सकता है। एसआईपी वास्तव में एक अवधारणा है, जो निवेशकों को अपने वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर अपनी बचत को चैनलाइज करने की सुविधा देती है। जानकार कहते हैं कि अगर निवेशक का लक्ष्य शॉर्ट टर्म है, तो डेब्ट/शॉर्ट टर्म फंड में एसआईपी की योजना बनाई जा सकती है।

बुल या बीयर मार्केट के आधार पर एसआईपी की योजना बनानी चाहिए

बुल या बीयर मार्केट के आधार पर एसआईपी की योजना बनानी चाहिए

एसआईपी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे किसी भी मार्केट लेवल के आधार पर प्लान करने की आवश्यकता नहीं है, चाहे वह बुल बाजार में हो या बीयर बाजार में। रेगुलर बचत को सुनिश्चित करने के लिए एसआईपी को एक अनुशासित गतिविधि के रूप में नियोजित किया जाना चाहिए। लंबी अवधि के लिए निवेश करने पर एसआईपी अपना काम करते हैं।

एसआईपी एक प्रोडक्ट है

एसआईपी एक प्रोडक्ट है

कई निवेशक सोचते हैं कि एसआईपी अपने आप में एक प्रोडक्ट है। एसआईपी एक निवेश प्रोडक्ट नहीं है बल्कि एक निवेश फैसिलिटी है जो निवेशकों को नियमित निवेश करने की सुविधा देती है। यह निवेश की एक शैली या एक अवधारणा है।

English summary

Mutual Fund Avoid these confusions on SIP only then will benefit

There are investors who believe that to take full advantage of the average cost, it is better to do a daily SIP so that the investment happens every day instead of once a month. However, when you evaluate the difference in returns of monthly and daily SIPs, there is not much difference.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X