For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Crytocurrency : मची हुई है तबाही, ये हैं गिरावट के 5 बड़े कारण

|

नई दिल्ली, जून 16। क्रिप्टोकरेंसी बाजार हर दिन एक नए निचले स्तर पर गिरता जा रहा है। बिटकॉइन, दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरंसी अपने 18 महीने के निचले स्तर पर है, गिर कर 21393 डॉलर (16 जून) पर आ गई है। इस साल अब तक इसमें करीब 60 फीसदी की गिरावट आई है। इस बीच, दूसरी सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी एथेरियम 25 प्रतिशत से अधिक गिरकर 1133.6 डॉलर पर आ गई। सभी प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी गिरावट के साथ कारोबार कर रही हैं। इससे लंबी अवधि के निवेशकों को भी झटका लगा है। यहां हम उन 5 बड़े कारणों की जानकारी देंगे, जिन्होंने क्रिप्टो-मार्केट को प्रभावित कर रखा है।

 

Cryptocurrency : निवेश का नया तरीका, बाजार के उतार-चढ़ाव से पैसा रहेगा सेफ

लूना-टेरा क्रैश

लूना-टेरा क्रैश

यह सब लूना-टेरा क्रैश के बाद शुरू हुआ। यह एक ऐसी घटना थी जिसके न केवल इसके निवेशकों बल्कि बड़े पैमाने पर क्रिप्टो ईकोसिस्टम के लिए गंभीर परिणाम पेश किए। कई निवेशकों ने टेरा कॉइन में अपनी पूरी जीवन की बचत खो दी। ये एक स्टेबलकॉइन थी, जिसकी मार्केट कैपिटल क्रैश से पहले 18 अरब डॉलर से अधिक थी।
लूना के अपनी वैल्यू का 99.9 प्रतिशत खोने के साथ, टेराफॉर्म लैब्स (टेरा के पीछे की कंपनी) ने लूना टेरा को 1 डॉलर पर वापस लाने के लिए अपने पूरे बिटकॉइन भंडार को बेचने की योजना बनाई, जिसे वे करने में विफल रहे। नतीजतन, इसने क्रिप्टो बाजार से 40 बिलियन अरब से अधिक का सफाया कर दिया।

इक्विटी मार्केट का प्रभाव
 

इक्विटी मार्केट का प्रभाव

क्रिप्टो मार्केट इक्विटी मार्केट से भी जुड़ा हुआ है। यदि शेयर बाजार में गिरावट देखी जाती है, तो ऐसा ही ट्रेंड क्रिप्टो सेगमेंट में भी देखने को मिलता है। शेयर बाजार को प्रभावित करने वाले कई कारक क्रिप्टो की कीमतों को भी प्रभावित करते हैं। इन्वेस्टोपेडिया से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, 2021 के अंत में और 2022 के मध्य में, क्रिप्टोकरेंसी की कीमतें इक्विटी कीमतों के समान ही बढ़ीं और गिरीं।

ब्याज दरों में बढ़ोतरी

ब्याज दरों में बढ़ोतरी

मुद्रास्फीति को कम करने के लिए अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दर बढ़ाने का फैसला किया है। फेड कर्ज की कीमत बढ़ाने, धीमी गति से खर्च करने और रिकॉर्ड उच्च मुद्रास्फीति पर लगाम लगाने के लिए आक्रामक रणनीति का पालन करेगा। ब्याज दरों में आक्रामक वृद्धि को आमतौर पर मंदी के संकेतक के रूप में देखा जाता है। इस खबर के बाद, शेयर बाजार के साथ-साथ क्रिप्टो बाजार में भी भारी गिरावट देखी गई।

सेल्सियस नेटवर्क

सेल्सियस नेटवर्क

डीसेंट्रलाइज्ड फाइनेंस सेल्सियस नेटवर्क ने रविवार को घोषणा की कि यह "एक्स्ट्रीम मार्केट कंडीशंस" के मद्देनजर सभी क्रिप्टो लेनदेन को रोक रहा है। शटडाउन के बाद, एक बड़ी बिकवाली देखी गई, जिससे सभी क्रिप्टो गिर गए। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, 17 मई तक, कंपनी की वेबसाइट के अनुसार इसने 8.2 बिलियन डॉलर के लोन को प्रोसेस किया था और 11.8 बिलियन डॉलर की इसकी एसेट थी। पिछले साल अगस्त में इसके पास 20 अरब डॉलर से ज्यादा की संपत्ति है।

रेगुलेटरी चैलेंजेस (नियामक चुनौतियां)

रेगुलेटरी चैलेंजेस (नियामक चुनौतियां)

वैश्विक क्रिप्टो बाजार विश्व सरकारों की जांच के अधीन रहा है क्योंकि वे क्रिप्टो को रेगुलेट करने का प्रयास कर रहे हैं। भारत ने अभी तक क्रिप्टो बिल पेश नहीं किया है। विधेयक भारत में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित करने का प्रयास करेगा। देश ने क्रिप्टो निवेशकों पर 30 प्रतिशत कर और प्रत्येक क्रिप्टो इंट्रा-ट्रेडर्स पर 1 प्रतिशत टीडीएस भी लगाया है। वर्तमान में, भारत ने क्रिप्टो को विनियमित नहीं किया है, लेकिन इसे वैध भी नहीं करेगा।

English summary

Cryptocurrency There is devastation these are the 5 big reasons for the decline

It all started after the Luna-Terra crash. It was an event that posed dire consequences for not only its investors but the crypto ecosystem at large.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X