For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

अच्‍छी खबर: अक्टूबर से ट्रेनों में बढ़ जाएंगी 4 लाख सीटें, अब आसानी से मिलेगा टिकट

|

नई द‍िल्‍ली: रेल से सफर करने वाले यात्रियों के ल‍िए अच्‍छी खबर है। जी हां यात्रियों के लिए आने वाले समय में रेल का रिजर्व टिकट अपेक्षाकृत आसानी से सुलभ हो सकता है। इतना ही नहीं रेलवे ऐसे उपाय करने जा रही है, जिनसे अक्टूबर से गाड़ियों में रिजर्व यात्रा के लिए रोजाना 4 लाख से अधिक सीटें (बर्थ) बढ़ेंगी। इसके लिए रेल विभाग ऐसी टेक्नॉलॉजी अपनाने जा रहा है, जिससे डिब्बों में रोशनी और एयर कंडीशनिंग के लिए बिजली को लेकर अलग से पावर कार (जनरेटर डिब्बा) लगाने की जरूरत नहीं होगी। बता दें कि यह जरूरत इंजन के माध्यम से ही पूरी हो जाएगी। बुधवार को रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी। रेलवे में 50 फीसदी पदों पर होगी महिलाओं की भर्ती ये भी पढ़ें

करीब 5,000 डिब्बे एचओजी टेक्नॉलॉजी से होगें परिचालित
 

करीब 5,000 डिब्बे एचओजी टेक्नॉलॉजी से होगें परिचालित

वहीं फिलहाल लिंक हाफमैन बुश (एलएचबी) डिब्बों वाली प्रत्येक रेलगाड़ी में एक से दो जेनरेटर बोगी लगी होती है। इन्हीं डीजल जेनरेटर बोगियों से सभी डिब्बों को बिजली की आपूर्ति की जाती है। इसे ऐंड ऑन जनरेशन (ईओजी) टेक्नॉलॉजी के तौर पर जाना जाता है। हालांकि अधिकारियों ने कहा कि जल्द ही विभाग दुनिया भर में प्रचलित हेड ऑन जेनरेशन (एचओजी) टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल शुरू करने जा रहा है। इस टेक्नॉलॉजी में रेलगाड़ी के ऊपर से जाने वाली बिजली तारों से ही डिब्बों के लिए भी बिजली ली जाती है। आपको बता दें कि अधिकारियों ने बताया कि अक्टूबर 2019 से भारतीय रेल के करीब 5,000 डिब्बे एचओजी टेक्नॉलॉजी से परिचालित होने लगेंगे।

पीयूष गोयल: भारतीय रेल के निजीकरण का कोई प्रस्ताव नहीं ये भी पढ़ें

सालाना 6,000 करोड़ रुपये से अधिक की बचत

इस बात से भी अवगत कराया गया हैं कि इससे ट्रेनों से जनरेटर बोगियों को हटाने में मदद मिलेगी और उनमें अतिरिक्त डिब्बे लगाने की सहूलियत भी मिलेगी। इतना ही नहीं, इससे रेलवे की ईंधन पर सालाना 6,000 करोड़ रुपये से अधिक की बचत होगी। सिर्फ एक गैर-वातानुकूलित डिब्बे को बिजली आपूर्ति करने के लिए प्रति घंटा 120 यूनिट बिजली की जरूरत होती है। इतनी बिजली पैदा करने के लिए जनरेटर प्रति घंटा 40 लीटर डीजल की खपत करता है। वहीं वातानुकूलित डिब्बे के लिए ईंधन का यही खपत बढ़कर 65 से 70 लीटर डीजल प्रति घंटा हो जाती है।

आज से बदल गया 297 ट्रेनों का समय, सफर से पहले ध्यान से पढ़े ये खबर

डिब्बों से हर दिन करीब चार लाख बर्थ उपलब्ध
 

डिब्बों से हर दिन करीब चार लाख बर्थ उपलब्ध

इतना ही नहीं यह प्रणाली पर्यावरण अनुकूल है। इसमें वायु और ध्वनि प्रदूषण नहीं होगा। साथ ही यह प्रत्येक रेलगाड़ी के हिसाब से कार्बन उत्सर्जन में 700 टन वार्षिक की कमी लाएगी। जानकारी के मुताबकि, उदाहरण के तौर पर प्रत्येक शताब्दी एक्सप्रेस में दो जेनरेटर बोगियां लगायी जाती हैं। जब हम एचओजी प्रणाली को इस्तेमाल करना शुरू कर देंगे तो ऐसी ट्रेनों में स्टैंडबाय के लिए मात्र एक जेनरेटर बोगी की जरूरत होगी। वहीं अधिकारियों ने बताया कि उनके अनुमान के मुताबिक, जब एलएचबी डिब्बों वाली सभी रेलगाड़ियां नई टेक्नॉलॉजी से चलने लगेंगी तो अतिरिक्त डिब्बों से हर दिन करीब चार लाख बर्थ उपलब्ध होंगी। इससे रेलवे की आय भी बढ़ेगी।

क्‍या जानते है आप Rail Ticket पर लिखें इन शब्दों के मतलब? ये भी पढ़ें

English summary

More Than 4 Lakh Seats Will Increase Daily In Trains From October

Good news for travelers traveling by railways, Indian Railways will allot 4 lakh extra berths every day since October।
Company Search
Enter the first few characters of the company's name or the NSE symbol or BSE code and click 'Go'
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?

Get Latest News alerts from Hindi Goodreturns

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Goodreturns sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Goodreturns website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more