For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Jet airways जैसे संकट में काम आएगा Travel insurance, मिलेगी पाई-पाई

|

नई दिल्ली। हाल ही में जेट एयरवेज (Jet airways) ने अपनी सभी उड़ानें बंद कर दी हैं। ऐसे में जिन लोगों ने इस विमान कंपनी से अपनी हवाई टिकट (Air ticket) बुक करा रखीं हैं उनको पैसा वापस (refund of money) लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस दिक्कत का सबसे बड़ा कारण जेट एयरवेज (Jet airways) के पास लौटाने के लिए पैसों का संकट है। लेकिन अगर किसी ने ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) ले रखा है तो उसको फ्लाइट कैंसिल या डिले (Flight cancellation and delay) होने पर यह पैसा बीमा कंपनी से क्लेम (Claim from insurance company) करके वापस मिल सकता है।

Jet airways जैसे संकट में काम आएगा Travel insurance

 

क्लेम लेने के लिए जरूरी जानकारी
विमान कंपनियां (Airline companies) वैसे तो फ्लाइट्स कैंसिल (Flight Cancellations) होने पर हवाई टिकट के पैसे रिफंड (Air ticket money refund) कर देती हैं। लेकिन फ्लाइट अगर लेट (Flight delay) होती है तो वो आपके पैसे चुकाने के लिए बाध्य नहीं होतीं हैं। साथ ही अगर ऐसी कोई स्थिति पैदा होती है कि फ्लाइट के कैंसल (Flight Cancellations) होने में एयरलाइंस का कंट्रोल नहीं है, तो एयरलाइंस की ओर से उपलब्ध कराए जा रहे दूसरे विकल्प को न चुनने पर यात्री को किसी तरह का ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) कम्पनसेशन नहीं मिलता। लेकिन अगर गलती एयरलाइंस की हो तो यात्री ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) के तहत बीमा क्लेम (Insurance claim) का हकदार होता है और उसको नुकसान की भरपाई के अलावा मुआवजा भी मिल सकता है।

क्या हैं ट्रैवल इंश्योरेंस के फायदे (Benefits of Travel Insurance)

ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेने पर यात्रियों को फ्लाइट कैंसल (Flight Cancellations) होने के साथ ही विलंब होने की स्थिति में भी यात्री को मुआवजा मिल सकता है। अगर एयरलाइंस की ओर से फ्लाइट कैंसल या डिले (Flight delay) की गई है तो बीमा कंपनी की ओर से यात्री को इंश्योरेंस लेते वक्त ट्रिप डिले एंड मिस्ड कनेक्शन (Flight cancellation and delay) के तहत तयशुदा रकम मुआवजे में मिलेगी। लेकिन अगर फ्लाइट यात्री की गलती की वजह से छूटी है तो बीमा कंपनी ऐसी स्थिति में कोई भरपाई नहीं करती है।

यह भी पढ़ें : JM की NCD : 10.51 फीसदी ब्याज पाने का मौका आज से

ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेने में क्या सावधानी रखें
 

ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेने में क्या सावधानी रखें

ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेते वक्त कैंसिलेशन और डिले दोनों स्थितियों का कवर लेना चाहिए। खासकर विदेश यात्रा (Foreign trip) के समय। हालांकि अमेरिका (US) और 26 यूरोपीय देशों (European Countries) की यात्रा के लिए जारी होने वाले शेनजेन वीजा (Shenzhen visa) के साथ ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेना जरूरी बना दिया गया है।

कई जगह जाने पर जरूरी है ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेना
विदेश यात्रा के समय ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेना और भी अनिवार्य हो जाता है क्योंकि ऐसी फ्लाइट्स में ऐसी स्थितियां बन सकती हैं, जिनपर एयरलाइन का कोई कंट्रोल न हो। अगर आपने इंश्योरेंस (insurance) नहीं लिया है और इस दौरान राजनीतिक अस्थिरता या आतंकी हमले जैसी कोई स्थिति आ जाती है तो एयरलाइन आपको मुआवजा भरने के लिए बाध्य नहीं है। लेकिन अगर आपने इंश्योरेंस लिया है तो आपको इसका मुआवजा मिलेगा। इसके लिए आपको अपनी पॉलिसी में ये ऑप्शन चुनने होंगे।

यह भी पढ़ें : TV देखना सस्ता कर देंगे ऑल-इन-वन प्लान, जानें फायदे और रेट

और क्या फायदे हैं ट्रैवल इंश्योरेंस के (What are the advantages of Travel Insurance?)

ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) लेते वक्त मेडिकल और नॉन-मेडिकल इमरजेंसी के लिए कवर लेना चाहिए। अगर आपको मेडिकल खर्च की जरूरत पड़ती है तो उसकी भरपाई भी बीमा कंपनी को करनी होगी। इसमें आपको प्राकृतिक कारणों से हुए कैंसिलेशन या डिले पर कवर मिलेगा। वहीं यात्रा के दौरान सामान खोने पर भी बीमा कंपनी इसकी भरपाई करेगी। इसके लिए आपको पॉलिसी (policy) में अपने सामान की डिटेल और कीमत बतानी होती है। बाद में बीमा कंपनी (Insurance company) उसी हिसाब से बीमा कवर (insurance cover) जारी करती है। इसके अलावा बीमा पॉलिसी में कनेक्टिंग फ्लाइट के मिस होने या होटल में ज्यादा स्टे करने के लिए ऑप्शन भी चुना है तो आपको इसके लिए भी बीमा कवर मिल सकता है।

ट्रैवल इंश्योरेंस लेते वक्त क्या रखें सावधानी (Careful when taking travel insurance)
यहां पर याद रखना चाहिए कि आप जितने ज्यादा ट्रैवल इंश्योरेंस (Travel insurance) कवर चाहेंगे उतना ही ज्यादा प्रीमियम (premium) आपको चुकाना होगा। इसलिए जितना जरूरी हो उतना ही ट्रैवल इंश्योरेंस लेना चाहिए। प्रीमियम की राशि आपकी यात्रा के दिन, आपके सहयात्रियों और विजिटिंग लोकेशन्स की संख्या के हिसाब से तय होती है। इंश्योरेंस कंपनियां इंडिविजुअल्स, फैमिली प्लान (Family Travel insurance plan), सीनियर सिटीजन (Senior Citizen Travel insurance plan) या स्टूडेंट प्लान (Student Travel insurance plan) के साथ-साथ बिजनेस ट्रैवलर्स (Business Traveling Travel insurance plan) के लिए भी अलग अलग ट्रैवल इंश्योरेंस प्लान देती हैं।

यह भी पढ़ें : पुराना Mobile बेचने में रखें ये सावधानी, नहीं तो लुटना तय

Read more about: travel insurance बीमा
English summary

flight cancellation or delays now you can claim under travel insurance

What are the benefits of travel insurance? these Mistakes to Avoid When Filing a Travel Insurance Claim.
Story first published: Monday, April 22, 2019, 12:15 [IST]
Company Search
Enter the first few characters of the company's name or the NSE symbol or BSE code and click 'Go'
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?

Find IFSC

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Goodreturns sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Goodreturns website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more