For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

जानिए कितना आएगी कोरोना वैक्सीनेशन की कॉस्ट, ये हैं अनुमान

|

नई दिल्ली, अप्रैल 23। देश में कोरोना महामारी का कहर जारी है। इन दिनों महामारी की दूसरी लहर का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रही है। कोरोना बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने बड़ा फैसला लिया हैं। देशभर में कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग के बीच तीसरे चरण का वैक्सीनेशन अभियान एक मई से शुरू हो रहा है, जिसमें 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोग टीका लगवा सकेंगे। केंद्र सरकार का कहना है कि वह 18 से 44 साल के आयु वर्ग के लोगों के लिए टीकों की आपूर्ति नहीं करेगी। ऐसे में लोगों को वैक्सीन खुद खरीदनी पड़ेगी या फिर राज्य सरकारों को टीकों की खरीद करनी होगी। हालांकि, कुछ राज्यों ने ऐलान किया है कि वह अपने लोगों को मुफ्त वैक्सीन की सुविधा देंगे।

 

जानिए कितना आएगी कोरोना वैक्सीनेशन की कॉस्ट, ये हैं अनुमान

खरीद प्रक्रिया और अन्य महत्वपूर्ण विवरणों पर अधिक स्पष्टता की आवश्यकता है। लेकिन इस सवाल का जवाब देने के लिए टीकों की लागत पर स्पष्टता की आवश्यकता है। अब तक केवल वैक्सीन निर्माताओं में से एक, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई ), जो ऑक्सफोर्ड / एस्ट्राजेनेका वैक्सीन बना रहा है (भारत में कोविशील्ड) ने इसकी कीमत घोषित कर दी है - राज्य सरकारों के लिए प्रति खुराक 400 रु और निजी अस्पतालों को आपूर्ति के लिए 600 रु प्रति खुराक है। अन्य टीके, जिनमें भारत बायोटेक द्वारा बनाए गए कोवाक्सिन शामिल हैं, और जिन्हें आयात किया जाएगा या उनके भारतीय-निर्मित संस्करणों को रोल आउट किया जाएगा, आने वाले दिनों में कीमत बदल सकते हैं।

वैक्सीन लगाने में करने होंगे खर्च
एसआईआई की कीमत को अभी के लिए मानदंड के रूप में लेते हुए, 18 से 44 वर्ष की आयु के लोगों के बीच टीकाकरण की कीमत 47,500 करोड़ रु से लेकर 71,500 करोड़ रु तक जा सकती है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि एसआईआई वैक्सीन की खरीद की कीमत 400 प्रति खुराक है या 600 रु खुराक है। जनसंख्या अनुमानों पर सरकार के तकनीकी समूह की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कुल 18-44 वर्षीय आयु वर्ग की जनसंख्या 594.6 मिलियन होने की उम्मीद है। यह रिपोर्ट 18-44 वर्षीय आयु वर्ग के वि‍भिन्‍न राज्‍यों द्वारा ली गई है।

 

टीकाकरण की पूर्ण लागत, जो कि यह महत्वपूर्ण है, हमें राज्यों पर राजकोषीय बोझ के बारे में नहीं बताता है। इसकी गणना करने के लिए, हमें ये देखना जरुरी है कि वैक्सीन पर राज्यों के कुल खर्च की कितनी लागत है। एक विश्लेषण से पता चलता है कि टीकाकरण का राजकोषीय बोझ जो कि राज्यों के कुल बजटीय खर्च के हिस्से के रूप में है वह राज्यों में बड़े पैमाने पर भिन्न होगा। सीएमआईई के र‍िपोर्ट के अनुसार बिहार को सबसे अधिक बोझ का सामना करना पड़ेगा जो कि 2021-22 में राज्य के कुल खर्च का 1.8% है। यह संख्या हिमाचल प्रदेश में सबसे कम है, जहां राजस्व बोझ बजट वाले राज्य के खर्च का सिर्फ 0.54% होगा। जबकि पंजाब और आंध्र प्रदेश को छोड़कर सभी राज्य बजट के 2021-22 बजट अनुमान हैं जहाँ 2020-21 संख्याओं का उपयोग किया गया है।

जीडीपी का 0.36 फीसदी बैठेगा खर्च
इंडिया रेटिंग्स की गणना के अनुसार इस काम पर 67,193 करोड़ रुपए की लागत आ सकती है, जो सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 0.36 फीसदी बैठता है। जिसमें से केंद्र सरकार 20,870 करोड़ रुपए और सभी राज्य सरकारों पर सामूहिक रूप से 46,323 करोड़ रुपए खर्च आएगा।

इन राज्यों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर
वैक्सीन लगाने के खर्च का बोझ सबसे ज्यादा बिहार पर पड़ेगा। बिहार के ग्रॉस स्टेट डोमेस्टिक प्रोडक्ट का 0.60 फीसदी बैठता है. इसके बाद उत्तर प्रदेश (0.47 फीसदी), झारखंड (0.37 फीसदी), मणिपुर (0.36 फीसदी), असम (0.35 फीसदी), मध्य प्रदेश (0.30 फीसदी) और ओडिशा (0.30 फीसदी) पर पड़ेगा।

Read more about: coronavirus business news
English summary

Third Phase Of Vaccination From May 1 know How Much The States Are Spending On The Youth

Starting May 1, people above the age of 18 will also be vaccinated with the corona vaccine.
Story first published: Friday, April 23, 2021, 16:02 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X