For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

कमर तोड़ झटका : 17 साल के हाई लेवल पर पहुंची थोक महंगाई, 15 फीसदी का आंकड़ा पार

|

नई दिल्ली, मई 17। अप्रैल के महीने में थोक मुद्रास्फीति भारत में बढ़ कर 15.08 प्रतिशत हो गई, जो कम से कम 17 वर्षों में सबसे अधिक है। इस बात का खुलासा सरकार के नवीनतम आंकड़ों से हुआ है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि मुद्रास्फीति में वृद्धि मुख्य रूप से कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, गेहूं, फलों और सब्जियों, बेसिक मेटल्स और रासायनिक उत्पादों जैसे खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों के कारण हुई है। डब्लूपीआई (थोक मूल्य सूचकांक) मुद्रास्फीति, जो कम से कम अप्रैल 2005 के बाद से सबसे अधिक है, विश्लेषकों की अपेक्षा 14.48 प्रतिशत से अधिक है। डब्लूपीआई रीडिंग के लिए यह लगातार 13वां महीना ऐसा है जिसमें थोक महंगाई दोहरे अंकों में रही। इससे पहले मार्च में डब्लूपीआई मुद्रास्फीति 14.55 फीसदी थी।

 

Cryptocurrency : इससे बुरा क्या होगा, 21 करोड़ रु के रह गए 50 हजार रु

सब्जियां हुई महंगी

सब्जियां हुई महंगी

आंकड़ों से पता चलता है कि अप्रैल में खाद्य पदार्थ सेगमेंट में 8.35 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई। इससे पहले के महीने में यह 8.06 फीसदी थी। इस वृद्धि के लिए सब्जियों की कीमतों में वृद्धि को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। आंकड़ों से पता चलता है कि मार्च में 19.88 प्रतिशत की वृद्धि के मुकाबले सब्जियों की कीमतें अप्रैल में 23.24 प्रतिशत बढ़ीं। आलू के दाम 19.84 फीसदी चढ़े जबकि प्याज के दाम (-)4.02 फीसदी फिसले।

फलों की कीमत
 

फलों की कीमत

फलों की कीमतों में पिछले महीने मार्च में 10.62 प्रतिशत से 10.89 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई, जबकि गेहूं की कीमतें एक महीने पहले 14.04 प्रतिशत से घट कर 10.70 प्रतिशत हो गईं। अंडे, मांस और मछली की कीमतें अप्रैल में एक महीने पहले 9.42 प्रतिशत से घट कर 4.50 प्रतिशत रह गईं और मार्च में 8.12 प्रतिशत की तुलना में पिछले महीने अनाज 7.80 प्रतिशत महंगा हो गया।

ईंधन की कीमतें

ईंधन की कीमतें

ईंधन और बिजली सेगमेंट मार्च में 34.52 प्रतिशत से पिछले महीने बढ़ कर 38.66 प्रतिशत हो गया। पेट्रोल की कीमत में 60.63 प्रतिशत, एचएसडी (हाई-स्पीड डीजल) में 66.14 प्रतिशत और एलपीजी की कीमतों में 38.48 प्रतिशत की वृद्धि हुई। मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्ट सेगमेंट अप्रैल में महंगाई 10.85 प्रतिशत बढ़ी, जो एक महीने पहले 10.71 प्रतिशत थी। पिछले सप्ताह जारी अलग आंकड़ों में, देश की खुदरा मुद्रास्फीति, जिसे उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) द्वारा मापा जाता है, अप्रैल के महीने में बढ़कर 8 साल के उच्च स्तर 7.79 प्रतिशत पर पहुंच गई।

English summary

shock Wholesale inflation reached a high level of 17 years crossed 15 percent mark

WPI (wholesale price index) inflation, which is the highest since at least April 2005, exceeded analysts' expectations of 14.48 percent. This is the 13th consecutive month for WPI readings in which wholesale inflation remained in double digits. Earlier in March, WPI inflation was 14.55 per cent.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X