For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

लॉटरी बेचने वाले का ही लगा 12 करोड़ रु का इनाम, जो इकलौता टिकट नहीं बिका उसी में था जैकपॉट

|

नयी दिल्ली। रातोंरात अमीर बनना भला कौन नहीं चाहेगा। मगर सब की किस्मत रातोंरात नहीं चमकती। पर कुछ लोग किस्मत के धनी होते हैं, जो ईमानदारी से ही किसी न किसी शॉर्टकट से जल्द करोड़पति बन जाते हैं। ऐसा ही एक शॉर्टकट है लॉटरी। जिसका भी जैकपॉट लगा, वो रातोंरात अमीर हो जाता है। हर साल भारत से लेकर अमेरिका तक लॉटरी के जरिए कई लोगों की किस्मत बदल जाती है। एक ऐसा ही ताजा मामला सामने आया है केरल से, जहां एक लॉटरी बेचने वाले की ही करोड़ों की रु की लॉटरी लग गई।

लगा 12 करोड़ रु का इनाम
 

लगा 12 करोड़ रु का इनाम

द न्यूज मिनट की रिपोर्ट के अनुसार 46 वर्षीय शरफुद्दीन की केरल में पूरे 12 करोड़ रु की लॉटरी लगी है। तमिलनाडु के करीब तेनकाशी के रहने वाली शरफुद्दीन असल में खुद एक लॉटरी विक्रेता हैं। हुआ ये कि जिन लॉटरियों को वे बेच रहे थे उनमें से एक उन्हीं के पास बच गई और इसी बची लॉटरी में उन्हें 12 करोड़ रु का इनाम लग गया।

केरल सरकार की है लॉटरी

केरल सरकार की है लॉटरी

केरल सरकार के क्रिसमस-न्यू ईयर बम्पर इश्यू में शरफुद्दीन ने टॉप प्राइज जीता, जिससे वे रातोंरात 12 करोड़ रु के मालिक बन गए। उनके लिए ये बहुत आश्चर्य की बात रही। मगर जो भी है ये उनके लिए बेहतर हुआ। शरफुद्दीन तमिलनाडु में सीमावर्ती कोल्लम जिले में 'पोरंबोक' (सरकारी) भूमि पर एक छोटे से घर में रहते हैं। वे सऊदी अरब में काम कर चुके हैं। शरीफुद्दीन का जीवन काफी चुनौतियों भरा रहा है।

कोरोना संकट में बढ़ी मुसीबतें
 

कोरोना संकट में बढ़ी मुसीबतें

शरफुद्दीन के सामने 6 लोगों की जॉइंट फैमिली का भरण-पोषण करने की जिम्मेदारी है। खास कर कोरोना संकट में उनकी मुसीबतें और बढ़ गईं। मगर उनकी मुसीबतें खत्म हो गई हैं। शरफुद्दीन अपना खुद का घर बनाना चाहते हैं। साथ ही वे अपना कर्ज चुका कर एक छोटा बिजनेस शुरू करना चाहते हैं। शरफुद्दीन ने सऊदी अरब में 2004 से 2013 तक छोटे-मोटे काम किए। फिर 9 साल बाद वापस लौट आए।

पहली बार लगा बड़ा ईनाम

पहली बार लगा बड़ा ईनाम

वे काफी समय से लॉटरी बेच रहे हैं। उनके परिवार में उनकी मां, दो भाई, पत्नी और बेटा परवेज मुशर्रफ है, जो कक्षा 10 का छात्र है। इससे पहले वे लॉटरी के छोटे ईनाम जीते हैं, लेकिन यह पहली बार है जब उन्होंने एक जैकपॉट जीता है। मंगलवार को वह तिरुवनंतपुरम में लॉटरी निदेशालय के सामने पेश हुए और विनर टिकट पेश किया। 30 फीसदी टैक्स कटौती और 10 फीसदी एजेंट कमीशन के बाद शरफुद्दीन को लगभग 7.50 करोड़ रुपये मिलेंगे।

पिछले साल किसका लगा था ईनाम

पिछले साल किसका लगा था ईनाम

पिछले साल सितंबर में इडुक्की के रहने वाले 24 वर्षीय अनंतु विजयन ने केरल सरकार के तिरुवोनम बंपर 2020 में 12 करोड़ रुपये जीते थे। अनंतू भी एक साधारण परिवार से हैं। वे कदवन्त्र में पोन्नेथ मंदिर में एक क्लर्क के रूप में काम कर रहे थे।

किस्मत का खेल : गलती से खरीदा लॉटरी टिकट और बना करोड़पति, जीते 14.76 करोड़ रु

English summary

lottery seller could not sell one ticket but that ticket made him millionaire rewarded Rs 12 crore

Sharafuddin won the top prize in the Kerala Government's Christmas-New Year bumper issue, making him the owner of Rs 12 crore overnight. It was very surprising for him.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?