For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

2020 : जानिए 1 साल ही कितना कम हो गई FD की ब्याज दरें

|

नई द‍िल्‍ली: वर्ष 2020 में बचत खाते, टर्म/ फ‍िक्‍स्‍ट ड‍िपॉजि‍ट, चालू खाते से लेकर सभी प्रकार के जमा पर बैंकों द्वारा दी जाने वाली ब्याज दरों में भारी गिरावट देखी गई। भारतीय रिज़र्व बैंक को आर्थिक विकास सुनिश्चित करने के लिए वित्त वर्ष 2020 के लिए एक आक्रामक रुख बनाए रखना था। वर्तमान में, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) द्वारा दिए गए बचत बैंक खाते पर ब्याज दर, प्रति वर्ष 3% से कम है। SBI : सीनियर सिटीजन को दे रहा न्यू ईयर गिफ्ट, FD पर म‍िलेगा ज्यादा ब्याज का फायदा ये भी पढ़ें

 
2020 : जानिए 1 साल ही कितना कम हो गई FD की ब्याज दरें

मार्च और मई के बीच, आरबीआई ने महामारी और अर्थव्यवस्था में गि‍‍रावट को देखते हुए, अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के ल‍िए बेंचमार्क रेपो दर को 115 आधार अंकों तक घटा दिया था। इसलिए बैंकों को जमा दरों के साथ-साथ उधार दरों को भी कम करना पड़ा। वहीं गिरती ब्याज दरों ने कई व्यक्तियों और परिवारों को बुरी तरह घातक पहुंचाया, जो मुख्य रूप से अपने मासिक खर्चों को पूरा करने के लिए जमा राशि से प्राप्त ब्याज राशि पर निर्भर थे।

महामारी संकट और लॉकडाउन प्रतिबंधों के कारण पूरे वर्ष मुद्रास्फीति के स्तर में वृद्धि ने केंद्रीय बैंक को ब्याज दरों को न्यूनतम स्तर तक नीचे करने के लिए मजबूर कर द‍िया था। दिसंबर के दौरान हाल ही में हुई मौद्रिक नीति की समीक्षा बैठक के दौरान, आरबीआई ने बढ़ती मुद्रास्फीति के बीच बाजार की उम्मीदों के अनुरूप प्रमुख नीतिगत दरों को अपरिवर्तित रखा है।

 
2020 : जानिए 1 साल ही कितना कम हो गई FD की ब्याज दरें

एक्सिस बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री सौगत भट्टाचार्य कहते हैं, "बचतकर्ता अब पूछना शुरू करेंगे कि कितना बचत करना है और अपना पैसा कहां लगाना है। वर्तमान में आर्थिक अनिश्चितताओं का मतलब यह होगा कि बचतकर्ता के दिमाग में रिटर्न का ख्‍याल नहीं होगा, लेकिन इसका असर यह हो सकता है कि उनके घरेलू बचत पर प्रभाव पड़ें। बचत योजना पर ब्याज दरों की सरकार द्वारा हर तीन महीने में समीक्षा की जाएगी। बचत योजना के लिए ब्याज दरों पर आने वाली गणना का सुझाव श्यामला गोपीनाथ समिति ने दिया था। समिति की रिपोर्ट ने सुझाव दिया था कि विभिन्न योजनाओं के लिए दी जाने वाली ब्याज दरें 25-100 बीपीएस के बीच होनी चाहिए, जो समान मैचुर‍िटी रखने वाले सरकारी बॉन्डों द्वारा दी जाने वाली ब्याज दरों से अधिक है।

एसबीआई का बचत बैंक खाता 31 मई, 2020 से 2.7% ब्‍याज प्रति वर्ष प्राप्त होगा। कोटक महिंद्रा बैंक जैसे निजी बैंक बचत खाते पर प्रति वर्ष 3.50% की ब्याज दर (1 लाख रुपये तक की शेष राशि) की पेशकश कर रहे हैं। दूसरी ओर, आईसीआईसीआई बैंक बचत खाता बचत खाते पर 50% से नीचे के दिन के शेष के लिए 3% प्रति वर्ष का ब्याज देगा। वहीं दूसरी ओर इंडसइंड बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री गौरव कपूर का कहना है कि "ब्याज दरों को कम कर दिया गया है, क्योंकि एक उम्मीद है कि वृद्धि में संकुचन के कारण मांग बहुत कम होगी।

English summary

Interest Rates Witnessed A Sharp Drop In 2020 In Hindi

The year 2020 saw a sharp decline in the interest rates offered by banks on all types of deposits ranging from savings account, term / fixed deposit, current account.
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X