For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

वैश्विक अर्थव्यवस्था पर गहराया अंधेरा, वापस पटरी पर आने में होगी देरी

|

नयी दिल्ली। कोरोनावायरस महामारी के एशिया से अमेरिका महाद्वीप तक फैल जाने से पिछले महीने दुनिया की अर्थव्यवस्था संकट में आ गई है। रॉयटर्स के अर्थशास्त्रियों के साथ किए गए एक पोल के मुताबिक वैश्विक अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने में समय लगेगा। पोल में शामिल हुए अर्थशास्त्रियों में से 20 फीसदी से भी कम को अर्थवव्यवस्था में वापसी की उम्मीद है। कई देशों ने वायरस, जिससे वैश्विक स्तर पर 55 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो गए हैं, को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन में ढील देनी शुरू कर दी है। इससे इक्विटी बाजारों में इकोनॉमी में बेहतर और समृद्ध तेजी की उम्मीद बनी है। इसी उम्मीद से शेयर बाजारों में तेजी भी देखने को मिली है। मगर आर्थिक गतिविधियों के वापस सामान्य होने में समय लगेगा। क्योंकि ये महामारी दुनिया भर में फैल चुकी है और अलग-अलग समय पर देशों में पहुंच रही है। रॉयटर्स ने पिछले कुछ हफ्तों में 250 से अधिक अर्थशास्त्रियों के बीच पोल किया। इस पोल में अधिकतर देशों में इस साल पहले के अनुमान के मुकाबले और गहरी मंदी आने का अनुमान लगाया गया है।

वैश्विक अर्थव्यवस्था पर गहराया संकट, वापसी में लगेगा समय

 

3.2 फीसदी गिरावट का अनुमान

पोल के अनुसार वैश्विक अर्थव्यवस्था में इस साल 3.2 फीसदी की गिरावट आएगी। इसके 3 अप्रैल के पोल में -1.2 फीसदी और 23 अप्रैल के पोल में -2.0 फीसदी गिरावट का अनुमान लगाया गया था। हैरान करने वाली बात ये है कि इस पोल में किसी भी अर्थशास्त्री ने 2020 में ग्रोथ की उम्मीद नहीं जताई है। जबकि गिरावट के लिए 0.3 फीसदी से लेकर 6.7 फीसदी तक के अनुमान लगाए गए हैं। मालूम हो कि महामारी फैलने से पहले इस साल वैश्विक आर्थिक विकास दर के लिए 2.3 से 3.6 फीसदी तक का अनुमान लगाया गया था।

अगला साल रहेगा शानदार

इस साल ग्लोबल इकोनॉमी में किसी भी तरह ग्रोथ का अनुमान नहीं लगाया गया है। मगर पोल में अगले साल वैश्विक विकास दर के 5.4 फीसदी रहने अनुमान लगाया गया है, जबकि पिछले महीने 4.5 फीसदी का अंदाजा लगाया गया था। पिछले पोल के मुकाबले अमेरिका, यूरो क्षेत्र, ब्रिटेन और जापान के लिए पूर्वानुमान कम किए गए हैं। सरकारों की तरफ से महामारी के आर्थिक प्रभाव से निपटने के लिए उठाए गए कदमों को लेकर भी अलग-अलग राय रही। इनमें कुछ का मानना है कि किए गए उपाय काफी रहे, जबकि 2 अर्थशास्त्रियों ने माना कि ये जरूरत से ज्यादा रहे। जबकि कुछ ने कहा कि ये नाकाफी रहे।

 

कोरोना का कहर : इतिहास की सबसे बड़ी मंदी से गुजरेगा भारत

English summary

Darkness on global economy deepens will be delay in getting back on track says rueters poll

Less than 20 percent of the economists polled expect a return to the economy. Many countries have begun to relax the lockdown imposed to prevent the virus from spreading.
Story first published: Wednesday, May 27, 2020, 16:51 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Goodreturns sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Goodreturns website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more