For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

एजीआर की टेंशन के बीच Airtel को हुआ 1035 करोड़ रुपये का घाटा

|

नयी दिल्ली। देश की प्रमुख टेलीकॉम कंपनियों में से एयरटेल को चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 1035 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। एजीआर को लेकर चल रही टेंशन के बीच एयरटेल को 2019-20 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 1035 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। एयरटेल को हुए इस भारी घाटे के पीछे असल वजह लाइसेंस शुल्क और स्पेक्ट्रम यूसेज से संबंधित असाधारण शुल्क है। बता दें कि 2018-19 की समान तिमाही में एयरटेल 86.2 करोड़ रुपये के मुनाफे में रही थी। हालांकि एजीआर के लिए प्रोविजन की वजह से इसे पिछली यानी 2019-20 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 23,044.9 करोड़ रुपये का भारी भरकम घाटा हुआ था। बता दें कि एजीआर एक यूसेज और लाइसेंस चार्ज है, जो दूरसंचार विभाग टेलीकॉम ऑपरेटरों से लेता है। एयरटेल को करीब 35,500 करोड़ रुपये का एजीआर चुकाना है। फिलहाल मामला सुप्रीम कोर्ट में है। एयरटेल और वोडाफोन की रिव्यू पिटीशन तक खारिज की जा चुकी हैं। इन कंपनियों ने सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन खारिज के होने के बाद शीर्ष अदालत में संशोधित याचिका दाखिल कर दी, जिस पर सुनवाई होनी है।

 
एजीआर की टेंशन के बीच Airtel को हुआ 1035 करोड़ रुपये का घाटा

आमदनी में हुआ इजाफा
एयरटेल को बेशक बहुत भारी घाटा हुआ है, मगर इसकी आमदनी में बढ़ोतरी हुई है। तिमाही दर तिमाही आधार पर एयरटेल की आमदनी 3.86 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 21,947.1 करोड़ रुपये रही। साल दर साल आधार पर भी इसकी आमदनी में 8.5 फीसदी का इजाफा देखने को मिला। सबसे खास और जरूरी चीज है कि एयरटेल के एआरपीयू यानी प्रति उपभोक्ता औसत आमदनी में बढ़ोतरी हुई। दिसंबर में प्लान महंगे करने का फायदा कंपनी को मिला है। जुलाई-सितंबर के मुकाबले एयरटेल का एआरपीयू 5.5 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 135 रुपये पर पहुँच गया।

मोबाइल 4जी डेटा ग्राहकों की संख्या बढ़ी
2018-19 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के मुकाबले 2019-20 की समान तिमाही में एयरटेल के मोबाइल 4जी डेटा ग्राहकों की संख्या 7.71 करोड़ से 60.6 फीसदी की जोरदार बढ़ोतरी के साथ 12.38 करोड़ हो गयी। 2019-20 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 2.1 करोड़ ग्राहक एयरटेल के 4जी नेटवर्क से जुड़े। वहीं कंपनी के डिजिटल टीवी कारोबार में 15.6 फीसदी की वृद्धि देखी गई।

 

यह भी पढ़ें - Airtel ग्राहकों को झटका, अब नहीं मिलेगी ये मुफ्त सर्विस

English summary

Airtel lost Rs 1035 crore amidst AGR stress

Airtel incurred a loss of Rs 1035 crore in the October-December quarter of 2019-20 amidst ongoing tension over AGR. The real reason behind this huge loss to Airtel is the license fee and exceptional fees related to spectrum usage.
Story first published: Tuesday, February 4, 2020, 19:55 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X