For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

रेस्टोरेंट और कंपनियां जीएसटी वसूल रहीं, लेकिन सरकार तक नहीं पहुंच रही

|

नई द‍िल्‍ली: बड़ी संख्या में छोटे रेस्टोरेंट (Small restaurant) और ऐसी कंपनियां जो सीधे उपभोक्ताओं को सामान बेचती हैं वे ग्राहकों से जीएसटी (GST) तो वसूल रही हैं, लेकिन इसे न तो सरकार के पास जमा कर रहीं हैं, न ही जीएसटी रिटर्न (GST Return) दाखिल कर रहीं हैं। ऐसे मामलों से निपटने के लिए GST अधिकारी एक प्रणाली भी तैयार करने में लगे हैं। इस बात की जानकारी दें द‍ि कई कंज्यूमर्स ने मोबाइल ऐप (Consumer Mobile Apps) इरिस पेरिडॉट (IRIS Peridot) के जरिए शिकायत दर्ज कराई है कि छोटे रेस्टोरेंट में उनसे GST वसूला जा रहा है लेकिन इस कर को सरकारी खजाने में जमा नहीं कराया गया और न ही इन रेस्टोरेंट्स (Restaurants) ने GST रिटर्न दाखिल किया है।

रेस्‍टॉरेंट्स और छोटे कारोबारी कर रहे हैं GST की चोरी

 

ऐप को कई ग्राहकों ने डाउनलोड किया

बता दें कि इस ऐप को कई ग्राहकों ने डाउनलोड किया है। यह ऐप GST सर्विस प्रोवाइडर (Service provider) द्वारा विकसित किया गया है। इसमें कारोबारी या सर्विस प्रोवाइडर (Business or service provider) के GST पहचान संख्या को स्कैन कर यह पता किया जा सकता है कि उस कारोबारी ने रिटर्न दाखिल किया है या नहीं।

आपको बता दें कि डेढ़ करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाले छोटे व्यवसायों को कंपोजीशन योजना (Composition scheme) लेने का विकल्प है। उन्हें प्रत्येक तिमाही रिटर्न दाखिल करना होता है। लेकिन कंपोजीशन योजना (Composition scheme) पनाने वाले कारोबारी ग्राहकों से GST नहीं वसूल सकते हैं। उन्हें अपने बिल अथवा चालान पर भी यह लिखना होगा कि वह कंपोजीशन योजना के तहत आते हैं, इसलिये माल की आपूर्ति अथवा दी गई सेवा पर जीएसटी (GST) लेने के हकदार नहीं है। कंपोजीशन योजना के तहत आने वाले व्यापारियों, कारोबारियों और मैन्युफैक्चरर्स (Traders and manufacturers) को अपने कुल कारोबार पर मात्र एक प्रतिशत की दर से जीएसटी का भुगतान करना होता है। जबकि कंपोजीशन योजना (Composition scheme) के तहत आने वाले रेस्टोरेंट को पांच प्रतिशत और सर्विस प्रोवाइडर्स को छह प्रतिशत की दर से जीएसटी भुगतान की सुविधा दी गई है। इस राशि को वह ग्राहकों से नहीं वसूल सकते हैं।

 

फरवरी माह में जीएसटी से कुल 97,247 करोड़ रुपए का रेवेन्यू ये भी पढ़ें

जीएसटी की चोरी का व‍िभाग पता कर रही

अधिकार‍ियों की माने तो उनका कहना हैं कि हमें उपभोक्ताओं से ऐसी कई शिकायतें मिलीं हैं कि जीएसटी रिटर्न (GST Returns) दाखिल नहीं करने वाली कई इकाइयां ग्राहकों से GST वसूल रहीं हैं। कुछ उपभोक्ताओं ने छोटे स्थानीय रेस्टोरेंट द्वारा जीएसटी वसूले जाने की शिकायत की है। जबकि ये रेस्टोरेंट कंपोजीशन योजना (Restaurant composition scheme) के तहत आते हैं। वहीं अधिकारी ने कहा कि शिकायतों की संख्या काफी ज्यादा है। कर विभाग ऐसी प्रणाली पर काम कर रहा है, जिससे यह पता लगाया जा सके कि कितने कर की चोरी हुई है। उसके बाद इन मामलों को फील्ड में काम करने वाले अधिकारियों के पास भेज दिया जाएगा।

English summary

Restaurants And Companies Recovering GST, But Not Depositing With Govt

Consumers have filed a complaint through a mobile app-IRIS Peridot that GST is being charged from them in small restaurants
Company Search
Enter the first few characters of the company's name or the NSE symbol or BSE code and click 'Go'
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Goodreturns sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Goodreturns website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more