For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Emergency Fund : डेब्ट फंड आएंगे काम, पैसे की टेंशन होगी दूर

|

नयी दिल्ली। इमरजेंसी फंड रखना आज के समय बहुत जरूरी है क्योंकि बुरा समय कभी भी आ सकता है। पिछले साल जब कोविड-19 महामारी फैली और उसके बाद लॉकडाउन लगा तो बहुत से लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा। कोरोना काल ने इमरजेंसी फंड के महत्व को और बढ़ा दिया है। इमरजेंसी फंड होने से यह सुनिश्चित होता है कि आपके पास अस्पताल में भर्ती होने, नौकरी छूटने या महामारी जैसी स्थिति के दौरान दूसरों की मदद लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। वित्तीय जानकार मानते हैं कि इस तरह की स्थिति से बचने के लिए हर किसी को अपने पास इमरजेंसी फंड बनाना चाहिए।

 

इमरजेंसी फंड के फायदे

इमरजेंसी फंड के फायदे

जब अचानक कोई आपात स्थिति आ जाती है और आप उस स्थिति को पूरा करने के लिए वित्तीय तौर पर तैयार नहीं होते हैं तो या तो आपको दोस्तों और रिश्तेदारों से या बैंक से लोन लेना पड़ता है। लेकिन कई बार किसी दोस्त या रिश्तेदार से मदद मांगना शर्मनाक हो सकता है। लेकिन अगर आपके पास एक इमरजेंसी फंड है तो आपको कठिन परिस्थितियों में दूसरों की मदद माँगने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।

निवेश रहता है बरकरार

निवेश रहता है बरकरार

इमरजेंसी फंड के रहते आपको अपने निवेश, जैसे कि इक्विटी म्यूचुअल फंड, शेयर या लॉन्गटर्म इन्वेस्टमेंट प्रोडक्ट्स को तोड़ने की भी जरूरत नहीं पड़ती। आपके निवेश लक्ष्य जो किसी खास लंबी अवधि के लक्ष्य को पूरा करने के उद्देश्य से किये होते हैं, बरकरार रहते हैं। इमरजेंसी फंड तैयार होने से आपको पैसे की चिंता किए बिना बुरे समय से निपटने का विश्वास मिलता है।

कितना बड़ा होना चाहिए इमरजेंसी फंड
 

कितना बड़ा होना चाहिए इमरजेंसी फंड

आपके इमरजेंसी फंड का साइज आपके मासिक खर्चों, आपकी लोन ईएमआई, इनकम और आप पर आश्रितों (परिवार के सदस्य) के आधार पर तैयार होगा। फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स के अनुसार आपके पास इन सभी खर्चों को मिला कर छह से नौ महीने तक चल पाने का इमरजेंसी फंड होना चाहिए। यानी आपके पास इतना बड़ा इमरजेंसी फंड तो जरूर ही हो, जिससे आप 6 महीन बिना टेंशन के काट सकें।

डेब्ट म्यूचुअल फंड आएंगे काम

डेब्ट म्यूचुअल फंड आएंगे काम

एक इमरजेंसी फंड बनाने का सबसे अच्छा तरीका है रिकरिंग बैंक डिपॉजिट या एक डेट फंड स्कीम में एसआईपी। आप इस फंड को तैयार करने के लिए अपने एक साथ मिलने वाले बेनेफिट जैसे सालाना बोनस आदि का भी उपयोग कर सकते हैं। लेकिन इमरजेंसी फंड को बनाने के लिए जिन डेब्ट फंड्स का इस्तेमाल किया जाना चाहिए वे या तो लिक्विड फंड हों या अल्ट्रा-शॉर्ट टर्म डेट फंड। ये फंड कम अस्थिर होते हैं और शॉर्ट टर्म एफडी जैसा रिटर्न देते हैं।

इमरजेंसी के समय तुरंत मिलेगा पैसा

इमरजेंसी के समय तुरंत मिलेगा पैसा

ऊपर बताए गए फंड में से इमरजेंसी के मामले में निवेशक 1 वर्किंग डे के भीतर पैसा निकाल सकते हैं। कुछ लिक्विड फंड तुरंत निकासी की सुविधा देते हैं, जिनसे आप आधे घंटे के भीतर पैसा निकाल सकते हैं।

इमरजेंसी फंड बनाने का आसान तरीका, पैसों की टेंशन हो जाएगी खत्म

English summary

Emergency Fund Debt funds will work money will go away

With an emergency fund, you do not even have to break your investments, such as equity mutual funds, shares or longterm investment products.
Story first published: Tuesday, March 23, 2021, 18:55 [IST]
Company Search
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X