Englishಕನ್ನಡമലയാളംதமிழ்తెలుగు

महिलाओं के लिए 11 बिजनेस आइडिया और 10 बिजनेस टिप्स

महिलाओं के लिए छोटा बिजनेस शुरु करने के लिए निवेश और बिजनेस टिप्स।

Written by: Ashutosh
Subscribe to GoodReturns Hindi

हमारे अगल-बगल ऐसी तमाम महिलाएं हैं जो अपने जीवन में एक हाथ से घर संभालती हैं और दूसरे हाथ से अपना बिजनेस/ऑफिस का काम करती है। तमाम ऐसी महिलाएं भी हैं जो अपना खुद का छोटा बिजनेस करना भी चाहती हैं पर उन्हें पता नहीं होता है कि इसकी शुरुआत कैसे करें। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि महिलाएं अपने लिए छोटा बिजनेस कैसे शुरु कर सकती हैं? आंत्रपेन्योर बन कर आप घर से काम कर सकती हैं। इसकी शुरूआत बड़े कारोबार से नहीं बल्कि छोटे काम से भी की जा सकती है। नीचे हमने इन्हीं विकल्पों की एक सूची तैयार की है।

बुटीक

आमतौर पर भारतीय घरों में लड़कियों को सिलाई-कढ़ाई का हुनर सिखाया जाता है। हालांकि शहर में बुटीकों की कमी नहीं है। लेकिन दूसरों से अलग दिखने के लिए महिलाएं आपकी बुटीक की ओर रुख कर सकती हैं।

ब्यूटी पार्लर

इस काम को शुरू करने के लिए इसे अच्छे से सीखना बहुत ज़रूरी है। यदि पैसों कि कमी के कारण आप पार्लर नहीं खोल सकती तो आप होम सर्विस दे सकती हैं। शादी के सीज़न में पार्लर का काम करने वालों की अच्छी कमाई हो जाती है।

फिटनेस सेंटर (जिम/योग)

यह काम बिना निवेश के नहीं खोला जा सकता। इस व्यस्त जीवन में फिट रहने के लिए जिम जाना योग करना या कसरत करना बहुत अहम हो गया है। यदि आप स्वयं योग या एरोबिक्स ट्रेनर हैं तब क्लास संभालना आपके लिए आसान होगा। ड़ायट की जानकारी सही सलाह देने में काम आएगी।

कंसल्टेंसी

आपका तजुर्बा और आपके कॉन्टेक्टस आपको इस फिल्ड में खड़ा कर सकते हैं। आज का सर्विस सेक्टर पहले से बहुत बदल गया है। हर सेक्टर की अपनी जरूरते और काम करने का ठंग है। यदि आप सही पद पर सही व्यक्ति का चुनाव करने में सक्षम है। तब आप इस कैरियर विकल्प के साथ आगे बढ़ सकती हैं।

ऑनलाइन व्यापार

इस विकल्प ने खरीद-बेच के कई द्वार खोल दिए हैं। यदि आप छोटा-मोटा व्यापार करती हैं तो ऑनलाइन उसे बड़ा बना सकता है। ऑनलाइन पर आप हस्तशिल्प वस्तुओं भी बेच सकते हैं। यदि आप फ्रीलान्सिंग के बारे में सोच रही हैं, तब लेखन, ग्राफिक डिज़ाइनिंग, लेखांकन, वर्चूअल असिस्टन्ट व अनुवादक का अनुभव आपके काम आ सकता है। इसके लिए आपको सही फ्रीलान्सिंग वेबसाइट या एजेंसी से संपर्क करना होगा।

रेस्टोरेंट

क्या मेहमाननवाजी के दौरान आपके खाने की तारीफ होती है? क्या लोग आपके खाने की रेसपी मांगते हैं? अगर आपके हाथों में ये जादू है तो आप एक रेस्तोरां या कैफे की मालकिन बन सकती हैं। अथवा बेकरी के उत्पादों को ऑर्डर पर बनाकर बेच सकती हैं।

क्रेच

बच्चों को स्त्रियों से बेहतर कोई नहीं संभाल सकता। यदि आपको बच्चों के साथ वक्त गुजारना अच्छा लगता है। उनकी मासूम और प्यारी बातें आपके मन को खुश करती हैं। ऐसे में क्रेच घर की जिम्मेदारियों के साथ अन्य ज़रूरतों को पूरा करने का अच्छा तरीका है।

गिफ्ट शॉप

यह व्यापार बिना किसी अनुभव के शुरू किया जा सकता है। इस व्यापार की नीव हैं, आपकी दुकान की वस्तुएं। अपनी दुकान को अनोखी और सुंदर वस्तुओं से सजाएं ताकि इनकी खोज ग्राहकों को आपकी दुकान तक ले आए।

इंटीरियर डेकोरेशन शॉप

आज एक्सटीरियर से ज्यादा खर्चा घर के इंटीरियर पर किया जाता है। जिसकी वजह से मकान की लागत बढ़ जाती है। लैप से लेकर शो पीस तक की चीज़ें आपके घर के आकार को बदलने की क्षमता रखती हैं। इंटिरियर डिजाइनिंग की समझ और रियल एस्टेट कॉन्टेंक्टस आपके व्यापार को फायदेमंद बना सकते हैं।

पेट शॉप

पालतू जानवर को घर के सदस्य की तरह रखा जाता है। उसे एक नाम दिया जाता है। उसे साफ सुथरा रखने के अलावा उसकी जरूर से जुडी हर चीज़ को अहमियत दी जाती है। फिर चाहे ये चीज़ें उसका खाना हो या गले में बंधा पट्टा।

अन्य व्यवयास संबंधित सुझाव

यदि आप इन विकल्पों से खुश नहीं हैं तो आप एजेंट या ट्यूटर बन सकती हैं। एजेंट के रूप में आप बैंक, बीमा कंपनियों व कुछ कॉस्मेटिक या होम प्रोडक्ट से जुडे ब्रांडों के साथ काम कर सकती हैं। यदि आपको संगीत, नृत्य या कला में रुचि है तब आप घर बैठे एक एकेडमी खोल सकती हैं। यदि आप विज्ञान या गणित जैसे विषय में तेज़ है तब आप ऑनलाइन टुयूटरिंग सेवा को भी आज़मा सकती हैं।

आत्मविश्वास बढ़ाएं

इन सबके अलावा आपको अपने बिजनेस के दौरान खुद पर और अपने साथियों पर भरोसा बनाए रखना होगा, कोई भी व्यवसाय बिना लोगों के नहीं चलता। अतः लोगों से बात करने के लिए आप में आत्मविश्वास होना चाहिए। आपको ग्राहकों एवं स्पलायरों से बात करने का ठंग आना चाहिए।

घर और काम को सही से संभालना

अक्सर महिलाएं आंत्रपेन्योर (स्वावलंबी) या फ्रीलान्सिंग जैसे कैरियर विकल्पों को इसलिए चुनती हैं ताकि वे अपने घर और काम की जिम्मेदारियों को ठीक से निभा पाएं। लेकिन फिर भी परिवार काम के बीच आ सकता है। इसलिए आपको तय करना होगा कि आप कितनी कारोबारी जिम्मेदारियां निभा सकती हैं या फ्रीलेंसर के तौर पर कितने घंटों के लिए काम कर सकती हैं।

खुद को कमतर न आंके

आंत्रपेन्योर बनना किसी बिजनेस चलाने से कम नहीं है। नाम भले ही अलग हो पर काम एक ही है। बिजनेस में निवेश होगा तो जोखिम भी होगा। इसलिए आपको सरकारी की बनाई गई व्यवसाय नीतियों को समझना होगा। बिजनेस में आने वाले उतार-चढ़ाव के लिए भी तैयार रहना होगा।

बाज़ार और उसकी ज़रूरतों को समझें

कोई भी सेवा को प्रदान करने से पहले यह जानना होगा कि क्या लोगों को उसकी ज़रूरत है। अगर है, तब आप उन तक अपनी सेवा कैसे पहुंचाएंगी। इसके लिए आपको विज्ञापन एवं मीड़िया के अन्य माध्यमों की जानकारी होनी चाहिए।

बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की समझ

यदि आप एक बड़ा कारोबार शुरू करने के बारे में सोच रही हैं। जिसमें कई लोंगों के साथ आपको कई विभागों की भी ज़रूर पड़ेगी। ऐसे काम को सफल बनाने के लिए उच्च शिक्षा और अनुभव की ज़रूरत है। बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की समझ आपको सही निर्णय लेने में एवं कारोबार को सफल बनने के काम आएगी।

वित्तीय मदद

यदि आपको अपने आइडिया पर भरोसा है और यकीन है कि यह एक सफल बिजनेस साबित होगा। तब वित्तीय मदद लेने में कोई परेशानी नहीं। बैंक से मिली मदद से आपका काम जल्द आरंभ हो सकता है। पैसे के लेनेदेन से बैंक के साथ आपके अच्छे संबंध बरकरार रहते हैं।

प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लें

कुछ समय के बाद हर काम में बदलाव आते हैं। बाज़ार में अपनी पकड़ को बनाए रखने के लिए एवं अपने कारोबार की खामियों को दूर करने के लिए आपको समय-समय पर प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लेना चाहिए। आप चाहे तो ऑनलाइन सेवा द्वारा भी इन कार्यक्रमों में भाग ले सकती हैं।

विदेशी महिलाओं के मुकाबले पीछे हैं भारतीय महिलाएं

यहां एक बात गौर करने लायक है, वो ये कि, विदेशी महिलाओं के मुकाबले भारतीय महिलाएं थोड़ी पीछे हैं। कम आत्मविश्वास और सामाजिक दबाव उनकी प्रगति की गति को घटाते हैं। परंतु ऊंचाईयों को छुने के लिए उन्हें इन रूकावटों को पार करना होगा।

शब्द नहीं अर्थ को समझें

कुछ बरस पहले बॉलीवुड में एक फिल्म आई थी 'इंग्लिश-विंग्लिश', इस फिल्म में श्रीदेवी ने एक ऐसी भारतीय महिला का किरदार निभाया था जो अपने घर को भी संभालती है और अपना लड्डू बनाने का एक छोटा सा बिजनेस भी करती है, बाद में जब श्रीदेवी अमेरिका जाती हैं तो उन्हें एक कोचिंग क्लास में पता चलता है कि वो एक आंत्रपेन्योर हैं। कहने के तात्पर्य सिर्फ इतना है कि आंत्रपेन्योर शब्द और उसका अर्थ जानने भर से कोई आंत्रपेन्योर नहीं बन जाता है दरअसल ऐसे शब्द को जीना पड़ता है, इस फिल्म में श्रीदेवी के किरदार ने पहले एक स्वावलंबी महिला का जीवन जिया फिर बाद में उन्हें इसकी शब्दावली का पता चला।

English summary

Small Business Ideas for Women in India

A women Entrepreneur is an individual who undertake exigent role to fulfill her personal requirements and in the process become financially self-sufficient, here is 11 Business Ideas And 10 Buisness tips For Women in India
Please Wait while comments are loading...
Company Search
Enter the first few characters of the company's name or the NSE symbol or BSE code and click 'Go'
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?

Find IFSC