500 और 2000 रुपए के नोट की छपाई में कितना खर्च आता है?

Written by: Ashutosh
Subscribe to GoodReturns Hindi

2000 और 500 रुपए के नए नोटों को लेकर जितनी चर्चा हुई है उतनी शायद किसी और नोट को लेकर चर्चा शायद ही कभी हुई हो। अब सरकार ने स्पष्ट किया है 2000 रुए और 500 रुपए के नोटों की छपाई में कितना खर्च आता है। राज्यसभा में सरकार ने बताया कि 2000 और 500 रुपए के नोट की छपाई में कितना खर्च आता है।

3.77 रुपए में छपता है 2000 रुपए के नोट

सरकार ने बुधवार को बताया कि 500 रुपए के नए नोटों की छपाई पर 2.87 रुपए से 3.09 रुपए के बीच और 2,000 रुपए के नए नोटों की छपाई पर 3.54 रुपए से 3.77 रुपए के बीच लागत आई। सरकार ने बुधवार को सदन में यह जानकारी दी।

2.87 रुपए में छपता है 500 रुपए का नोट

केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने राज्यसभा में अपने लिखित जवाब में कहा, "500 रुपए के हर नए नोट की छपाई पर 2.87 रुपए से 3.09 रुपए के बीच और 2,000 रुपए के हर नए नोट की छपाई पर 3.54 रुपए से 3.77 रुपए के बीच लागत आई।"

नोटों की छपाई पर खर्च के शुरुआती आंकड़े हैं

मेघवाल ने साथ ही यह भी कहा कि चूंकि अभी 5,00 और 2,000 रुपए के नए नोटों की छपाई पूरी नहीं हो सकी है, इसलिए नए नोटों की छपाई पर आई कुल लागत अभी बताना संभव नहीं है। मेघवाल ने बताया कि 24 फरवरी तक देश में कुल प्रचलन मुद्रा 11.641 लाख करोड़ रुपए थी।

12.44 लाख करोड़ रुपए के पुराने नोट जमा हुए

उन्होंने बताया कि 10 दिसंबर, 2016 तक भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) में कुल 12.44 लाख करोड़ रुपए राशि के पुराने नोट जमा हुए थे।

500-1000 रुपए के पुराने नोट हुए बंद

आपको बता दें कि पिछले वर्ष 8 नवंबर 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात में 8 बजे घोषणा की थी कि देश में 500 रुपए और 1000 रुपए के नोट को लीगल टेंडर नहीं माना जाएगा। इसके बाद देश में 500 और 2000 रुपए के नए नोट चलन में आए।

English summary

The Cost Of Printing New 2000 And 500 Rupees Currency Notes

The government on Wednesday said it costs between Rs. 2.87 and Rs. 3.77 to print each currency note of Rs. 500 and Rs. 2,000.
Please Wait while comments are loading...
Company Search
Enter the first few characters of the company's name or the NSE symbol or BSE code and click 'Go'
Thousands of Goodreturn readers receive our evening newsletter.
Have you subscribed?

Find IFSC