होम  »  सोने के दाम  »  मुंबई

मुंबई में सोने के दाम (28th June 2017)

सिर्फ मुंबई में ही नहीं बल्कि सोना खरीदने की ललक पूरे देश के लोगों में बढ़ रही है। कई बार मुंबई में सोने के दाम अन्य शहरों के मुकाबले कम होते हैं। सोने के दाम हम मुहैया करवा रहे हैं मुंबई में आज के सोने के दाम।.

आज मुंबई में 22 कैरट सोने के दाम - प्रति ग्राम सोने के दाम भारतीर रुपए में

ग्राम 22 कैरट सोना
आज
22 कैरट सोना
कल
22 कैरट सोने के
हर रोज दाम परिवर्तित होते हैं
1 ग्राम 2,814 2,819 -5
8 ग्राम 22,512 22,552 -40
10 ग्राम 28,140 28,190 -50
100 ग्राम 2,81,400 2,81,900 -500

आज मुंबई में 24 कैरट सोने के दाम - प्रति ग्राम सोने के दाम भारतीर रुपए में

ग्राम 24 कैरट सोना
आज
24 कैरट सोना
कल
22 कैरट सोने के
हर रोज दाम परिवर्तित होते हैं
1 ग्राम 3,069.80 3,070 -0.20
8 ग्राम 24,558.40 24,560 -1.60
10 ग्राम 30,698 30,700 -2
100 ग्राम 3,06,980 3,07,000 -20

पिछले 10 दिनों में मुंबई सोने के दाम (10 ग्राम)

दिनांक 22 कैरट 24 कैरट
Jun 27, 2017 28,140 30,698
Jun 26, 2017 28,190 30,700
Jun 24, 2017 28,200 30,707
Jun 23, 2017 28,145 30,097
Jun 22, 2017 28,150 30,754
Jun 21, 2017 28,100 30,654
Jun 20, 2017 28,150 30,709
Jun 19, 2017 28,240 30,807
Jun 17, 2017 28,270 30,840
Jun 16, 2017 28,280 30,850

Weekly & Monthly Graph of Gold Price in मुंबई

सोने के ऐतिहासिक दाम (मुंबई)

  • सोने के दाम में बदलाव (मुंबई), May 2017
  • सोने के दाम 22 कैरट 24 कैरट
    1 st May दाम Rs.28,681 Rs.31,288
    31st May दाम Rs.28,400 Rs.30,994
    अधिकतम दाम May Rs.28,681 on May 1 Rs.31,288 on May 1
    न्यूनतम दाम May Rs.27,570 on May 17 Rs.29,533 on May 17
    कैसा रहा प्रदर्शन Falling Falling
    % बदलाव -0.98% -0.94%
  • सोने के दाम में बदलाव (मुंबई), April 2017
  • सोने के दाम में बदलाव (मुंबई), March 2017
  • सोने के दाम में बदलाव (मुंबई), February 2017
  • सोने के दाम में बदलाव (मुंबई), January 2017
  • सोने के दाम में बदलाव (मुंबई), December 2016

मुंबई में कहां से खरीदें सोना और सोने के आभूषण?

मुंबई के जावेरी बाजार जायेंगे तो आपको पता चलेगा कि मुंबई के लोग सोने के लिये कितने ज्यादा लालायित रहते हैं। ज्यादातर दुकानें ग्राहकों से भरी मिलेंगी। खास कर वीकेंड के दौरान। जावेरी बाजार भारत में सोने, रत्नों और आभूषणों के व्यापार के सबसे बड़े बाजार के रूप में जाना जाता है। त्रिभुवनदास भीमजी जावेरी, भारत में सबसे बड़े सोना विक्रेताओं में से एक हैं, जिसकी स्थापना 1864 में हुई थी। टीबीजेड इस इलाके का सबसे बड़े सोना विक्रेताओं में से एक है।

सिर्फ मुंबई में ही नहीं, सोने की खपत, पूरे देश में बढ़ रही है। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के अनुसार भारत में 2014 में जुलाई से सितंबर के बीच एक तिमाही में सोने की डिमांड 225.1 टन रही। वहीं उसके पिछले साल में यह खपत 161.6 टन थी। भारत में सोने की खपत इतनी तेजी से बढ़ रही है कि चीन भी पीछे हो गया। भारत सोने के मामले में चीन से भी आगे हो गया है।

मुंबई में कैसे करें अपने सोने और गोल्ड ज्वैलरी की सुरक्षा

जब इतने सारे बैंक हमारे आसपास है तब सोने को बैंक के अलावा किसी और जगह रखना बहुत ही मूर्खता भरा काम होगा। आप सोने को प्राइवेट लॉकर्स में भी रख सकते हैं। आजकल हाईटेक लॉकर्स की सुविधा उपलब्ध है जो प्राइवेट एजेंसियों द्वारा चलाये जाते हैं।

घर में कभी मत रखें सोने के गहने
कई ऐसी घटनाएं हुई हैं जिसमें कई बार बैंक के लॉकर्स तोड़े गए हैं या अन्दर से सुरंग बनाकर चीज़ों को की चोरी हो गयी है। हालांकि ऐसा बहुत कम होता है परन्तु ऐसा होना असंभव नहीं है। यदि आप मुंबई में रहते हैं तो और सोने की थोड़ी मात्रा को भी मुंबई में अपने फ्लैट या घर में स्टोर करके रखना चाहते हैं तो भी आपको ऐसा नहीं करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसमें बहुत अधिक खतरा है। इसमें चोरी होने का खतरा बहुत अधिक बढ़ जाता है।

सोने की उचित देखभाल करें
सोना एक मूल्यवान संपत्ति बन गया है और इसकी देखभाल भी उचित तरीके से की जानी चाहिए। जहां लोग विभिन्न विकल्पों के बारे में सोचते हैं वहीं सबसे अच्छा विकल्प है कि आप बैंक में एक लॉकर खोल लें। कई बैंक हैं जो इसकी सुविधा देते हैं परन्तु इसके साथ ही इसके लिए बैंक को कुछ शुल्क भी देना पड़ता है।

नजदीकी बैंक के लॉकर में रखें सोना
एक छोटे लॉकर के लिए बैंक को 4500 रुपए का शुल्क देना पड़ता है जिसमें आप अपने सोने को स्टोर करके रख सकते हैं। यह लॉकर के आकार पर निर्भर करता है। हम आपको सलाह देंगे कि आप पूछताछ करें और जहाँ सस्ते लॉकर उपलब्ध हों वहां लॉकर लें। एक महत्वपूर्ण बात जो ध्यान रखने लायक हैं वह यह है कि यदि आप लॉकर की चाबी खो देते हैं तो आपको अपनी चीज़ें वापस लेने के लिए बहुत लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। यह प्रक्रिया बहुत अधिक थका देने वाली होती है।

इलेक्ट्रॉनिक माध्मय से खरीदें गोल्ड
अत: बैंक लॉकर्स के साथ भी कई समस्याएं जुडी हुई हैं। इसलिए हमने इस लेख में बताया है कि निवेशकों को सोने को इलेक्ट्रॉनिक रूप में खरीदने की संभावनाओं पर विचार करना चाहिए। इससे वे पहले बताई गयी सभी समस्याओं और परेशानियों से बच सकते हैं। तो इस विकल्प को चुनें क्योंकि इसकी प्रक्रिया उतनी जटिल नहीं है।

लॉकर की सुविधा के बारे में बैंक में पता करें
हालांकि ध्यान रहे कि आप बैंक से पूछताछ कर लें कि क्या वे लॉकर की सुविधा देते हैं और आप उनके साथ मोलभाव कर सकते हैं। यदि उसी बैंक में आपका फिक्स्ड डिपाजिट है तो आपको कम शुल्क लगेगा। हालांकि आजकल नियम बदल गए हैं और कई बैंक ऐसे हैं जिनमें आपका फिक्स्ड डिपाजिट होने के बाद भी आपको लॉकर के शुल्क में कोई छूट नहीं मिलती।

कैसे तय होती है भारत में सोने की कीमत

यदि आप भारत में सोने के दामों पर गौर करेंगे तो आप पाएंगे कि देश के हर शहर में सोने के भाव अलग-अलग हैं। कई शहरों में सोना महंगा होता है तो कई शहरों में सस्ता। तो भारत में सोने के भाव आखिर कैसे तय होतें हैं। भारत के शहरों में सोने के भाव अंतरराष्ट्रीय भावों पर निर्भर करते हैं। इसलिए जब सोने के अंतरराष्ट्रीय भाव बढ़ते हैं तो कई शहरों में ज़्यादा महंगा सोना पड़ता है। हमारे यहां सोने की खानें ज़्यादा नहीं है हमें अपनी ज़रूरत का सोना आयात करना पड़ता है। भारत में सरकारी और निजी बैंक सोना आयात करते हैं , साथ ही कुछ एजेंसीज भी हैं जो कि विदेश से सोना खरीदकर डीलर्स को भेजती हैं। आयात करने वालों की ये सूची बदलती रहती है और सरकार इसमें बदलाव करती रहती है।

भारत में सोना कौन लाता है?

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ोदा, मिनरल और मेटल ट्रेडिंग कॉर्पोरेशन, यूनियन बैंक, सिंडीकेट बैंक आदि सोने के आयातक हैं। भारत में 38 बैंक हैं जो सोना बाहर से खरीदते हैं। बाद में ये बैंक सोने की अंतरराष्ट्रीय कीमत का हिसाब लगाकर उसे भारत की मुद्रा में बदलते हैं फिर उस पर आयात शुल्क लगा देते हैं। इस तरह इसका भारत में सोने का भाव तय होता है। मगर ये अंतिम खुदरा भाव नहीं है, सोने कीमतें शहरों के बुलियन एसोसिएशन द्वारा निर्धारित होती है, जैसे कि मुंबई। उदाहरण के लिए मुंबई में आईबीजेए (इंडियन बुलियन ज्वेलर्स एसोसिएशन), सोने के डीलर्स का एक एसोसिएशन हैं जहां उनके द्वारा कीमतें निर्धारित होती हैं बाद में इन्हें रिटेलर्स तक भेज दिया जाता है। इसके बाद रेट को पूरी तरह निर्धारित करने के लिए ये बड़े डीलर्स से संपर्क करते हैं और भविष्य की कीमतें तय करते हैं।

सोने के दाम तय करने की प्रक्रिया

सोने के भाव तय करने के अन्य तरीके भी हैं। आप सोने के अंतरराष्ट्रीय भाव लेकर उसमें डॉलर के मुक़ाबले रुपए की कीमत को गुणा कर सकते हैं। बैंक सोना आयात, वैट, ओक्ट्रोई और लोकल खर्चे निकालकर इससे मुनाफा करते हैं। इसलिए, एक ज्वेलर की दुकान पर आप जो भुगतान करते हैं उसमें घड़ाई के चार्जेज(मेंकिंग चार्ज) के साथ ये सब चीजें भी जुड़ी होती हैं।

भारत में सोने के दाम अलग-अलग शहरों में अलग-अलग क्यों होते हैं

अलग-अलग राज्यों में सोने के भाव अलग-अलग होते हैं। कुछ राज्यों में ट्रांसपोर्ट कोस्ट या परिवहन लागत ज़्यादा होती है। कुछ लोग मानते हैं कि मुंबई, चेन्नई और कोलकाता जैसे शहरों में सोने के भाव कम होते हैं क्यों कि यहां के बन्दरगाहों सोना सीधा पहुंचता है और अन्य लागतें बच जाती हैं। केवल ये ही कारण नहीं है कुछ अन्य कारण भी शहरों में सोने के इन भावों को प्रभावित करते हैं।

डॉलर से कैसे प्रभावित होती है सोने की कीमतें

सोने के भाव तय करने में करेंसी भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। उदाहरण के लिए, जैसे हमें सोना आयात करना होता है और इसका भुगतान डॉलर में करना होता है। अब यदि रुपए की कीमत डॉलर के मुक़ाबले 67 या 68 रुपए तक गिर जाती है तो हमें सोने के लिए 1 रुपया ज़्यादा देना पड़ेगा। जितना ज़्यादा सोना आयात किया जाएगा विदेशी विनिमय यानि फ़ोरेन एक्स्चेंज रिज़र्व भी देश में उतना ही ज़्यादा फ़्लो करेगा। यहां देखिए अपने शहर में सोने और चांदी के दाम

अस्वीकरण: इस पृष्ठ पर सोने के दाम स्थानीय प्रतिष्ठ‍ित ज्वैलरी शॉप व सुनारों से प्राप्त किये गये हैं। दामों में थोड़ा फर्क संभव है। Hindi.GoodReturns.in हमेशा प्रयासरत रहता है कि आपको सोने के सटीक दाम मुहैया करा सके। ग्रेनियम इंफॉरमेशन टेक्नोलॉजी, प्राइवेट लिमिटेड, एवं उसकी नियंत्रित कंपनियां और उससे जुड़ी कंपनियां इस बात की गारंटी नहीं लेती हैं कि दाम पूरी तरह सही हैं। यहां पर सोने के दाम सिर्फ सूचना के रूप में दिये जा रहे हैं। यह आपको सोना खरीदने या बेचने के लिये प्रेरित करने के लिये नहीं प्रेष‍ित किये जा रहे हैं। अगर सोने के दिये गये दामों के कारण कोई हानि या क्षति होती है, तो उसकी अभियोज्यता ग्रेनियम इंफॉरमेशन टेक्नोलॉजी, प्राइवेट लिमिटेड, एवं उसकी नियंत्रित कंपनियां और उससे जुड़ी कंपनियां नहीं रखती हैं।

Find IFSC